हर खिलाड़ी के लिए वह दिन आता है जब वो भारी मन से एक फैसला करता है कि अब वो अपने देश या राज्य के लिए दोबारा नहीं खेलेगा अर्थात सन्यास का फैसला लेता है। भारत के बाएँ हाथ के धुरंधर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भी यह फैसला कल लिया। अब गौतम की वो पारियां देखने को नहीं मिलेंगी जैसे वे वर्ल्ड कप में खेला करते थे।

 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Gautam Gambhir….Thank you for 2007 & 2011 World Cup… We will miss you😪 . . #gautamgambhir #theking #thewinner #bcci #india🇮🇳

A post shared by Amitraj Nirmal (@amitrajnirmal) on

दैनिक भास्कर के अनुसार, मंगलवार यानी कल गौतम गंभीर ने क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट से सन्यास ले लिया। भारत की ओर से 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले इस खिलाड़ी ने ट्विटर के माध्यम से इस बात का ऐलान किया। दो साल से टीम से बाहर चल रहे गौतम गंभीर ने अपना अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच वर्ष 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट में खेला था।

 

गंभीर ने ट्विट किया, “सबसे मुश्किल फैसला अक्सर भारी मन से लिया जाता है। और भारी मन के साथ मैंने एक ऐसा फैसला लिया है जो मेरे जीवन का सबसे कठिन फैसला है।”

 

बात चाहे T-20 विश्व कप फाइनल की हो या वर्ल्ड कप फाइनल की, एक बेहतरीन खिलाड़ी ने अपना खेल अपने देश अपनी टीम के लिए बखूबी खेला। वर्ष बीत जाएंगे, दशकों बीत जाएंगे लेकिन वर्ल्ड कप की वो पारियां जो एक बार इतिहास में लिखी जा चुकी हैं सदा अमिट रहेंगी और गौतम सदा याद आएंगे।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds