हाल ही में बीबीसी ने 21वीं शताब्दी की 100 सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्मों की सूची जारी की। इस सूचि मे भारत की एकमात्र बांग्ला फिल्म पथेर पांचाली (1955) अपनी जगह बनाने में कामयाब रही। सत्यजीत रे के निर्देशन में बनी फिल्म को सूचि में 15वां स्थान मिला है। जापान के महान निर्देशक अकीरा कुरोसावा की फिल्‍म सेवेन समुराई को इस लिस्‍ट में पहला स्‍थान दिया गया है। कमाल की बात यह है कि इस सूचि में एक भी हिंदी फिल्म का नाम शामिल नहीं है। 

Image may contain: 1 person, outdoor
Credit : Facebook

21वीं सदी की दुनिया की सर्वश्रेष्ठ फिल्मों की सूची बीबीसी द्वारा आयोजित एक पोल में, 43 देशों के 200 से अधिक समीक्षकों की राय के आधार पर तैयार की गयी थी। इस पोल में 67 निर्देशकों की 100 फिल्मों को शामिल किया गया था। 24 देशों की ये फिल्में 19 भाषाओं में थींं। इस उत्कृष्ट फिल्मों की सूचि में फ्रेंच की 27 फिल्में, मेंडरिन की 12 फ़िल्में, और जापान और इटली की 11-11 फिल्में शामिल हैं। 

पथेर पांचाली , इस फिल्म के ज़रिये सत्यजीत रे ने निर्देशन के क्षेत्र में कदम रखा था। विभूति भूषण बंद्योपाद्याय के उपन्यास पर आधारित फिल्म को काफी पसंद किया गया। यह सामाजिक मुद्दों पर बनाई गयी फिल्म है। इस फिल्म में ग्रामीण भारत के गांव में रहनेवाले एक गरीब परिवार के बच्चे के रोजमर्रा जीवन को दर्शया गया है। फिल्म की आधी शूटिंग पूरी होने के बाद सत्जीत रे के पास पैसे ख़त्म हो गए थे, जिसके बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने इस फिल्म के निर्माण में पैसे लगाए थे। 

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds