मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के शासकीय जिला चिकित्सालय में वैदिक पद्घति के अनुरूप कुण्डात्मक हर्बल उद्यान बनाया जा रहा है। सिविल सर्जन डा. आनंद चंदेलकर ने उद्यान निर्माण के पूर्व संक्षिप्त शोध करवाया था, जिसके आधार पर हर्बल उद्यान का मॉडल तैयार किया गया है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, प्राकृतिक वातावरण के अनुरूप बन रहे हर्बल उद्यान में प्रत्येक पौधे को वास्तु के अनुसार दिशा अनुरूप स्थान दिया जाएगा। विशेष नाम रखने के साथ प्रत्येक पौधे के लिए उसका एक घर बनाया गया है। इससे पौधे पर प्रतिकूल मौसम का प्रभाव नहीं पड़ेगा।

उद्यान में पौधों को ड्रिप वाटर इरीगेशन (मटकी द्वारा बूंद-बूंद जल) से सींचा जाएगा। इससे पौधों को पर्याप्त पानी मिलने के साथ पानी का अपव्यय भी नहीं होगा। पौधों की वृद्घि को देखते हुए कुंड की लम्बाई और चौड़ाई निर्धारित की गई है। इससे बड़े होने पर इन पेड़ों को आसानी से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित किया जा सकेगा।

उद्यान में पक्षियों के खाने-पीने एवं आवास की भी व्यवस्था की जाएगी। इससे पक्षियों द्वारा अन्य स्थान से लाए गए पराग कणों द्वारा पौधे आसानी से फलेंगे-फूलेंगे और प्राकृतिक वातावरण का निर्माण होगा।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds