योगी सरकार ने प्रदेश को सूखे की मार से बचाने के लिए एक नई योजना बना ली है, जिसके तहत प्रदेश के सूखा-ग्रस्त ज़िलों में हेलिकॉप्टर से कृत्रिम वर्षा कराई जाएगी। खबरों की माने तो इस बाबत प्रदेश सरकार ने आईआईटी कानपुर के साथ मिलकर एक प्रोजेक्ट भी तैयार कर लिया है।

समाचार एजेंसी आईएएनएस के अनुसार उत्तर प्रदेश के सिंचाई मत्री धर्मपाल सिंह का दावा है कि तमिलनाड़ु, कर्नाटक और महाराष्ट्र के बाद उत्तर प्रदेश में भी अब सूखा प्रभावित क्षेत्रों में कृत्रिम वर्षा कराई जाएगी। अधिकारियों का दावा है कि ₹5.5 करोड़ में 1000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कृत्रिम बारिश कराई जा सकेगी। इसकी शुरुआत बुंदेलखंड से की जाएगी।

Image may contain: 1 person, close-up
Credit: Facebook (I support yogi)

सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने बताया, मानसून खत्म होने के बाद बुंदेलखंड से कृत्रिम बारिश प्रोजेक्ट की शुरुआत होगी। सरकार ने इस तकनीक को चीन से खरीदने की कोशिश की मगर बात नहीं बनी। हालांकि, शुरुआत में चीन इस तकनीक को ₹11 करोड़ में देने को तैयार हो गया था, लेकिन बाद में इनकार कर दिया।

दरअसल, आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञ सरकार के सामने क्लाउड-सीडिंग (कृत्रिम बारिश) तकनीक का प्रजेंटेशन दे चुके हैं। क्लाउड-सीडिंग में प्राकृतिक गैसों का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए आईआईटी कानपुर ने हेलीकॉप्टर समेत तमाम उपकरणों की खरीदी भी कर ली है। कृत्रिम वर्षा करने के लिए हेलीकॉप्टर की मदद ली जाएगी।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds