समुद्री रेशम मार्ग का अध्ययन करने के लिए चीन और श्रीलंका एक साथ आए हैं। श्रीलंका के जाफना में एक एमओयू पर दोनों देशों ने हस्ताक्षर किए, जिसके तहत दोनों देशों के बीच सिल्क रूट के अध्ययन पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

दैनिक जागरण के हवाले से, “संग्रहालय के निरीक्षक यांग झियांग ने बुधवार को बताया कि एक व्यापक सांस्कृतिक विनियम कार्यक्रम के तहत दोनों देशों में करार हुआ है। इसमें पुरातात्विक महत्व के स्थलों की संयुक्त खुदाई, अवशेष संरक्षण और शैक्षिक सहयोग शामिल हैं।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds