भारत के प्रधानमंत्री ने दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा स्टेचू ऑफ़ यूनिटी का अनावरण, कल, यानी अक्टूबर 31 को किया। यह प्रतिमा प्रधानमंत्री की ड्रीम प्रोजेक्ट का हिस्सा है। सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊँची यह प्रतिमा भारत के गौरव का प्रतीक है। इसे आज यानी नवम्बर 1 को  पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है । आईए जानते हैं इस प्रतिमा के बारे में ख़ास बातें:

कहाँ बनी है स्टेचू ऑफ़ यूनिटी ?

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Sanjay Vyas (@sanjuvyas13) on

वड़ोदरा के पास नर्मदा जिले में स्थित सरदार सरोवर के केवाड़िया कॉलोनी गांव में इस प्रतिमा को स्थापित किया गया है । यह 182 मीटर ऊंची है और 7 किलोमीटर दूर से नजर आती है।

किसने बनायी और कितना खर्च आया ? 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by vasava vandana (@vasavamahesh663) on

सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट (SVPRET) ने प्रतिमा बनाने की जिम्मेदारी L&T कंपनी को दी थी। मूर्ति को बनाने में ₹2,989 करोड़  खर्च हुए।

कितनी ऊँची है यह प्रतिमा ?

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Indian Iron Man #sardarvallabhbhaipatel #ironman #statueofunity #photography

A post shared by Vadodara Blogs (@vadodara_click) on

इस प्रतिमा के होंठ 6 फीट के इंसान के कद से बड़े हैं। आंखें और जैकेट के बटन का व्यास 2.5 मीटर है। सात मंजिला इमारत जितना ऊंचा तो सिर्फ चेहरा है। 70 फीट के हाथ हैं। पैरों की ऊंचाई 85 फीट है। इतनी मजबूत कि 220 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार की हवाओं का भी इस पर कोई असर नहीं होगा।

क्या हम इसके अंदर जा सकते हैं ?

इस स्टैच्यू के अंदर एक हाईटेक लिफ्ट है। इससे पर्यटक सरदार पटेल के हृदय तक जा सकेंगे। यहां से लोग सरदार सरोवर बांध के अलावा नर्मदा के 17 कि.मी. लंबे तट पर फैली फूलों की घाटी का दीदार भी कर सकेंगे।

इसे बनाने में कितना समय लगा ? 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

THE STATUE OF UNITY , Jai Sardar Jai Patidar 💝

A post shared by Patidar Shivßhopali (@_mr._shiv_official_) on

इसको तैयार करने में पांच साल यानी 60 महीने लगे। आपको यह जानकर भी आश्चर्य होगा कि यह सबसे कम वक्त में बनने वाली दुनिया की विशालतम प्रतिमा भी है। अगर दूसरे नंबर पर आने वाली स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध प्रतिमा जो कि चीन में है, उसका जिक्र करें तो उसे बनाने में 90 साल लगे थे।

इसकी खासियत क्या है ? 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

#statueofunity #statueofunitytourism #statueofliberty #sardarvallabhbhaipatel #sardarpatel #gujarattourism #Gujarat #india #incredibleindia

A post shared by Statue Of Unity (@statueofunitygujarat) on

इस प्रतिमा का निर्माण भूकंपरोधी तकनीक से किया गया है। इसे इस तरह से डिजाइन किया गया है कि 6.5 की तीव्रता का भूकंप और 220 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं का भी इस पर कोई असर नहीं होगा।

इसे बनाने में किस धातु का उपयोग किया गया है ?

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

#statueofunity #incredibleindia #talleststatue #makingindiaproud🇮🇳 #tourismindia #namo #unityindiversity #talleststatueintheworld

A post shared by Satveer Dadrwal (@satveerdadrwal) on

प्रतिमा को सिंधु घाटी सभ्यता की समकालीन कला से बनाया गया है। इसे बनाने में चार धातुआें के मिश्रण का उपयोग हुआ है जिस कारण जंग लगने की सम्भावना ही नहीं है। इसके निर्माण में 85% तांबा इस्तेमाल किया गया है।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds