अमृतसर में शुक्रवार को दशहरा मेले के दौरान हुए ट्रेन हादसे में 61 लोग मारे गए हैं और 72 लोग घायल हुए हैं। हादसा शहर के जोड़ा फाटक  इलाके में हुआ, जहां लोग रावणदहन देखने के लिए इकट्ठा हुए थे। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह अपनी विदेश यात्रा छोड़कर घायलों का हाल जानने शीघ्र ही पहुंचे और उन्हें ₹5 लाख की नुकसान भरपाई देने की घोषणा भी की। लेकिन लोगों की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को देखते हुए इस राशि को और बढ़ाने के संकेत मिले हैं। 

credit : Facebook

सीएम अमरिंदर सिंह अपनी इजराइल की यात्रा स्थगित कर शनिवार को घटना की जानकारी लेने पहुंचे। सीएम ने सरकार की तरफ से मृतकों के परिजनों को ₹5 लाख और घायलों के लिए मुफ्त इलाज की बात कही थी। लेकिन अधिक विचार-विमर्श के बाद और अमृतसर रेल हादसे के पीड़ितों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति को देखते हुए इस राशि को बढ़ाने का संकेत मिला है। 

मुख्यमंत्री ने अपने प्रमुख प्रधान सचिव को कहा, “सरकार को पीड़ितों और मृतकों के परिजनों, विशेषकर गरीब परिजनों को ₹5 लाख देने से ज्यादा भी करना होगा।” मुख्यमंत्री ने ज्यादातर पीड़ितों के गरीब होने के कारण शीघ्रता से रसद, कपड़े और दवाइयां उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं और स्वास्थ्य मंत्री की अगुआई में मंत्रियों के आपदा प्रबंधन समूह के साथ राहत और पुनर्वास कार्यों की समीक्षा की।

Image may contain: 8 people, people standing
Credit : Facebook

मुख्यमंत्री जब घायलों को देखने अस्पताल पहुंचे तो घायल हुई दो युवतियों की कहानी सुनकर वे बेहद दुखी हो उठे। एक युवती ने अपने बच्चों सहित पूरा परिवार खो दिया तो वहीं दूसरी महिला ने अपने परिवार के साथ ससुराल वालों को भी खो दिया। मुख्यमंत्री ने अपने अधिकारियों से ऐसे पीड़ितों का प्रदेश सरकार द्वारा पुनर्वास जल्द से जल्द सुनिश्चित करने का निर्देश दिया, और मुआवजा राशि का जल्द से जल्द भुगतान करने को कहा। 

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds