बीते वित्त वर्ष 2017-18 में भारत ने सात अरब डॉलर से अधिक का समुद्रीय खाद्य पदार्थ का निर्यात किया, जिसमें खासतौर से झींगा मछली और उसी श्रेणी की अन्य मछलियां शामिल हैं।

समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एमपीईडीए) ने सोमवार को एक विज्ञप्ति में बताया कि भारत ने वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान 13,77,244 मीट्रिक टन समुद्री खाद्य निर्यात करके 7.08 अरब डॉलर अर्जित किया। रुपये के मूल्य में यह राशि 45,106.89 करोड़ रुपये है, जबकि वित्त वर्ष 2016-17 में 37,870.90 करोड़ रुपये मूल्य के समुद्री उत्पादों का निर्यात किया गया था। इस प्रकार, 21.35 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

अमेरिका और दक्षिण पूर्व एशिया ने भारत के समुद्री खाद्य उत्पादों के प्रमुख आयातक के रूप में अपनी स्थिति बरकरार रखी और इसमें अमेरिका की हिस्सेदारी 32.76 प्रतिशत रही, जबकि दक्षिण पूर्व एशिया की हिस्सेदारी 31.59 प्रतिशत रही। इसके बाद यूरोपीय संघ (15.77 प्रतिशत), जापान (6.29 प्रतिशत), मध्य पूर्व (4.10 प्रतिशत) और चीन (3.21 प्रतिशत) की हिस्सेदारी रही।

समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ. ए. जयतिलक ने कहा, वैश्विक समुद्री खाद्य व्यापार में निरंतर अनिश्चितताओं के सामने भारत अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में प्रशीतित झींगा और प्रशीतित मछली के अग्रणी आपूर्तिकर्ता के रूप में अपनी स्थिति को कायम रखने में सक्षम रहा है। कई पहलों और नीतियों की मदद से, हम 2022 तक 10 अरब डॉलर का निर्यात लक्ष्य हासिल करना चाहते हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds