वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने बुधवार को कहा कि भारत का निर्यात आगामी महीनों में बढ़ सकता है और चालू वित्त वर्ष के आखिर तक इसके 350 अरब डॉलर होने की उम्मीद है।

सुरेश प्रभु उद्योग संगठन एसोचैम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। यह कार्यक्रम दूसरा सेवा विशिष्टता अवार्ड प्रदान करने के लिए करवाया गया था। मंत्री ने इस अवसर पर कहा कि सेवा का क्षेत्र अर्थव्यवस्था का प्रबल संचालक बनने जा रहा है, जिसका 2025 तक देश के सकल घरेलू उत्पाद में 3000 अरब डॉलर का योगदान होगा।

 

उन्होंने कहा कि वैश्विक संरक्षणवाद के बावजूद निर्यात की दर लगातार बेहतर रहेगी और चालू वित्त वर्ष में 350 अरब डॉलर का निर्यात होगा।

उन्होंने कहा कि सेवा क्षेत्र को बढ़ावा देने के मकसद से वाणिज्य मंत्रालय ने इसके 12 प्रमुख क्षेत्रों की पहचान की है। जिन्हें मंत्रिमंडल ने सहायता पहलों के तहत 5,000 करोड़ रुपये मुहैया करवाने को मंजूरी प्रदान की है। उन्होंने कहा कि भारत सेवा क्षेत्र में अफ्रीका और लैटिन अमेरिका को निर्यात को बढ़ावा दे रहा है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, इस साल जून में भारत का निर्यात पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 17.57 फीसदी बढ़कर 27.7 अरब डॉलर हो गया। लेकिन ऊंची कीमतों पर कच्चे तेल का आयात होने से देश का व्यापार घाटा बढ़कर 16.60 अरब डॉलर हो गया।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds