इन दिनों चारों ओर बहुत सारा अनूठापन और विचित्रता दिखाई देती है। वह खान-पान, जीवन शैली से लेकर दोस्ती और रिश्तों तक फैली है। यहाँ हम दोस्ती की एक ऐसी मिसाल पेश कर रहें है जो सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किये बगैर नहीं रहेगी।

मलांग, इंडोनेशिया (Malang, Indonesia) के अब्दुल्लाह शोलेह (Abdullah Sholeh) और मुलान जमिलाह (Mulan Jamillah) नामक एक भारी-भरकम मादा शेरनी से मिलिए। उनके बिच ऐसी दोस्ती बनी है जिसे कोई दूसरा मनुष्य करने की हिम्मत नहीं करेगा। मुलान जब तीन वर्ष की छोटी सी शावक थी तब से अब्दुल्लाह उसका ध्यान रखते आ रहे है और तब से लेकर आज तक वे दोनों एक दुसरे के बिना नहीं रह सकते!

इस अद्भुत जोड़ी से मिलिए: मुलान, एक शेरनी और अब्दुल्लाह, उसके रखवाले …

अब्दुल्लाह मुलान के एकमात्र रखवाले है। वे उसे खिलाते-पिलाते है, उसे नहलाते है, उसके साथ खेलते है, और तो और उसके साथ सोते भी है। वे कभी कभार लड़ते भी है लेकिन वह उनके बिच सिर्फ एक हाथापाई वाला खेल होता है।

मुलान को दिन में दो बार मुर्गी या बकरे का 6 किलो मांस खिलाया जाता है। अब मुलान एक मीटर उंची और तीन मीटर लम्बी हो चुकी है, इस आकार के बावजूद उन दोनों के बिच कुछ बदला नहीं है।

जब वे बगीचे में खेलते है तब वे एक दुसरे के गले मिलते है और चुमते है। मुलान कभी-कभी इस हद तक भावुक हो जाती है कि वह अब्दुल्लाह को करीब-करीब जख्मी कर देती है।

चोट लगने और कभी-कभी छोटे जख्म होने के बावजूद अब्दुल्लाह को कोई फर्क नहीं पड़ता। वे हमेशा यह कोशिश करतें है कि मुलान खुश और संतुष्ट रहे। जब वे खेलते है तब वे उसे अपना चेहरा चाटने की भी अनुमति देते है।

खतरा स्पष्ट होने पर भी, अब्दुल्लाह शेरनी के रखवाले की भूमिका निभातें है। इसलिए उन्हें “शेरनी की आया” भी कहते है। लेकिन पिंजरे में जब वे दोनों साथ होते है तब सुरक्षा के कारणों से उन दोनों को अलग रखने के लिए धातु की सलाखें लगाई गयी है।

उन्होंने दृढ़ निश्चय किया है कि वे इस सुन्दर लेकिन खतरनाक प्राणी की देखभाल करेंगे। सच है कि उनकी बढ़ती हुई दोस्ती अब तक टिकी है। दुनिया की कोई भी चीज या कोई भी व्यक्ति उन्हें जुदा नहीं कर सकता।

उन दोनों ने आपस में जो रिश्ता बना है वह आज के दौर में बहुत असाधारण है। कभी-कभी इंसानों के साथ हमारी दोस्ती इतनी झूठी होती है कि इससे अच्छा है की हम प्राणियों से दोस्ती कर ले। हमें सीख यह लेनी है कि हम आपनी दोस्ती दिल से निभाए, चाहे वह इंसानों के साथ हो या फिर जानवरों के साथ, क्योंकि इस दुनिया में सच्ची दोस्ती के अलावा अधिक महत्वपूर्ण और कुछ नहीं है।

Photo credit: Barcroft TV

विडिओ देखे और उनकी दोस्ती से कुछ सीखे :

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds