एक तीक्ष्ण नज़र और सही संरचना के साथ तेज लेंस के पीछे काम करते हुए, इस फैशन फोटोग्राफर ने लोगों के सर्वश्रेष्ठ रूप को सामने लाने के कौशल पर महारत हासिल कर ली है। लेकिन एक चित्र केवल तभी पूरा होता है जब सही प्रकाश उसे अधिक बेहतर बनाता है, वैसे ही जीवन केवल तब ही चमकता है जब इसे अपना असली उद्देश्य और सही कोण मिल जाता है।

इस प्रतिभाशाली फोटोग्राफर ने वह जादुई कोण पाया, एक प्राचीन आध्यात्मिक अभ्यास के सही प्रकाश से, जिसे फालुन दाफा कहा जाता है। सरल ध्यान अभ्यास ने उन्हें सिखाया कि जीवन का एक संतुलित चित्र बनाने के लिए सत्य-करुणा-सहनशीलता के सिद्धांतों को कैसे जोड़ना चाहिए।

फैशन फोटोग्राफर अधिराज चक्रवर्ती (Credit: Errikos Andreou)

आइये मिलते हैं, एक फैशन मॉडल से फोटोग्राफर बने हुए अधिराज चक्रवर्ती से, जिन्होंने एक चमकदमक वाली दुनिया में अपना अति-प्रेरणादायक जादू डाला है। विल्स इंडिया फैशन वीक ( Wills India Fashion Week) में क्रिस्तियन डिओर (Christian Dior), यूजीजी ऑस्ट्रेलिया (UGG Australia), रोकावेअर (Rocawear) और ऐसे अन्य शीर्ष डिजाइनरों के लिए रैंप पर चलने से शुरुआत करने से, यह आकर्षक कलाकार सब कुछ कर चुके हैं। एनटीडी इंडिया के साथ एक साक्षात्कार के दौरान, उन्होंने अपने जीवन के बारे में विस्तार से साझा किया।

चक्रवर्ती ने अपना अधिकांश बचपन कोलकाता के सुंदर शहर में बिताया था। एक नौजवान के रूप में, उन्हें मॉडलिंग की दुनिया में अपना करियर बनाने पर विचार करने के लिए अपने साथियों द्वारा हमेशा कहा जाता था।

उन्होंने कहा: “मॉडलिंग उद्योग के बारे में मुझे बहुत सीमित ज्ञान था, इसलिए मैंने कभी ज्यादा रुचि नहीं ली। 2007 में, मेरी मां ने मुझे मिस्टर इंडिया प्रतियोगिता के लिए नामांकन करने के लिए कहा, और इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, मैं फाइनल में पहुँच गया और एलिट मॉडल मैनेजमेंट (Elite Model Management) नामक मॉडलिंग एजेंसी के साथ जुड़ गया।”

(Image Credit: Porus Vimadalal)

घटनाओं के क्रम के साथ, चक्रवर्ती ने प्रवाह के साथ बहने और मॉडलिंग जारी रखने का फैसला किया। उन्होंने कहा, “इस अवधि के दौरान, मैंने देश में और देश के बाहर बड़े पैमाने पर यात्रा की, और इस प्रकार कई चीजों का अनुभव करने का विशेषाधिकार मिला।”

उन्होंने कहा, “चीन में एक मॉडल के रूप में मेरी यात्राओं में से एक के दौरान मैंने मौत का करीब से अनुभव किया, जिसने कई चीजें बदल दीं। मैंने जीवन को गहराई से देखना शुरू कर दिया और महसूस किया कि हमारा उद्देश्य सिर्फ काम करना, पैसा बनाना और जीवन जीने का नहीं हो सकता हैहमारे जीवन में एक उच्च उद्देश्य होना चाहिए। मैं इसे लगातार खोज रहा था।”

2014 के वर्ष में, उन्हें एहसास हुआ कि उनकी आंतरिक आवाज़ उन्हें फोटोग्राफी की ओर बुला रही थी। उन्होंने कहा, “मैंने मास मीडिया का अध्ययन किया था और हमेशा से कुछ रचनात्मक करना चाहता था, इस प्रकार मैंने फोटोग्राफी लेने पर विचार किया।”

इसलिए, जब उनके दोस्त ने उन्हें एक कैमरा दिया, तो उन्हें तुरंत महसूस हुआ कि यही उनका पथ और आगे चलने का रास्ता है।

(Credit: Gunita Stobe)
हाउस ऑफ सोहन (House of Sohn) के लिए दिवा धवन (Diva Dhawan) की चक्रवर्ती द्वारा ली गयी छवि। (Credit: Instagram|Adhiraj Chakrabarti)

चक्रवर्ती ने कहा कि उन्होंने उसी वर्ष फालुन दाफा नामक ध्यान प्रणाली का अभ्यास शुरू किया और उसके गहन नैतिक शिक्षाओं में अपने जीवन के सभी सवालों के जवाब पाए। “मुझे अनिमा क्रिएटिव एजेंसी के निदेशकों द्वारा फालुन दाफा से परिचय कराया गया था। पहले अभ्यास सत्र से ही मुझे लगा कि मैं इसे और अधिक बार करना चाहूँगा, “उन्होंने कहा।

उन्होंने कहा, “उस समय मैं इस अभ्यास के लाभों से अनजान था, केवल एक चीज जिसे मैंने समझा, वह था सत्य, करुणा और सहनशीलता के तीन सिद्धांत।”

अधिराज चक्रवर्ती फालुन दाफा के दूसरे व्यायाम का अभ्यास करते  हुए। (Credit: Mark Luburic)

उन्होंने साझा किया कि फालुन दाफा के सिद्धांत ही उन्हें बड़े से बड़े तूफानों को एक उज्ज्वल मुस्कान के साथ सामना करने का आंतरिक साहस बन गए हैं। उन्होंने कहा, “इस अभ्यास ने मेरे भीतर बहुत सारे बदलाव लाए। मैंने परिस्थितियों को पहले की तुलना में बहुत अलग तरीके से देखना शुरू कर दिया। इससे पहले, मुझे बहुत अधिक गुस्सा आ जाता था और में अपना धैर्य अक्सर खो देता था, लेकिन यह सब आंतरिक रूप से और साथ ही बाहरी रूप से बदल गया।”

चक्रवर्ती ने कहा कि फालुन दाफा अभ्यास ने उन्हें शारीरिक रूप से भी लाभान्वित किया है। उन्होंने कहा, “मेरे बाएं पैर में आंशिक पक्षाघात विकसित हुआ था, और मैं एक महीने तक चलने में असमर्थ था। लेकिन जैसे ही मैंने ज़ुआन फालुनफालुन दाफा की मुख्य पुस्तक पढ़ना शुरू कियामेरे पैर की उंगलियों में हरकत होने लगी। फिर धीरे-धीरे, जैसे जैसे मैंने उस पुस्तक को पढ़ना समाप्त कर दिया, तब तक मैंने अपने पैरों से चलना शुरू कर दिया, और यह ठीक हो गए। उस समय, मैंने महसूस किया कि यह एक चमत्कार है!”

चक्रवर्ती ज़ुआन फालुन  पुस्तक पढ़ते हुए। (Credit: Mark Luburic)

उन्होंने कहा, “मैं अक्सर बीमार पड़ता था, और फालुन दाफा के पांच व्यायामों का अभ्यास करने के बाद यह पूरी तरह से चला गया।”

फालुन दाफा (जिसे फालुन गोंग भी कहा जाता है) एक प्राचीन ध्यान प्रणाली है जिसे 1992 में चीन में सार्वजनिक किया गया था और इसके गहन स्वास्थ्य लाभों के कारण दुनिया भर में अत्यधिक लोकप्रिय हुआ था। यह अनुमान लगाया गया है कि 1990 के उत्तरार्ध में 70-100 मिलियन से अधिक लोग अकेले चीन में फालुन दाफा का शांतिपूर्ण ध्यान अभ्यास करते थे। हालांकि, जुलाई 20, 1999 को चीनी कम्युनिस्ट शासन के पूर्व नेता जियांग जेमिन ने फालुन दाफा के शांतिपूर्ण अभ्यास के खिलाफ उत्पीडन के अवैध राष्ट्रव्यापी अभियान की घोषणा की।

चक्रवर्ती फालुन दाफा के पांचवें व्यायाम का अभ्यास करते हुए। उन्होंने कहा कि इस अभ्यास ने उन्हें और भी ऊर्जावान बना दिया है। (Credit: Gunita Stobe)

उन्होंने कहा, “जब मैंने पहली बार चीन में फालुन दाफा के उत्पीड़न के बारे में सुना, तो मुझे यह बात अकल्पनीय लगी कि इस तरह के एक शांतिपूर्ण अभ्यास, जिसने दुनिया भर में इतने सारे लोगों को फायदा पहुंचाया है, का उत्पीडन हो रहा है, और वह भी इतनी क्रूरता के साथ।”

उन्होंने कहा कि वह हमेशा दूसरों के साथ अपने आध्यात्मिक विश्वास की सुंदरता साझा करने और उत्पीड़न के बारे में बताने का प्रयास करते हैं। “मैंने कुछ पुस्तक मेलों में भाग लिया है, और लोगों को फालुन दाफा के लाभ और चीन में चल रहे उत्पीड़न के बारे में बताया है। मेरे काम के दौरान, अगर मौका मिलता है, तो मैं इस अभ्यास के बारे में बताने की कोशिश करता हूं,” उन्होंने कहा।

चकाचौंध से भरी दुनिया में, खुद को खोना और बह जाना आसान है। लेकिन उन्होंने कहा, “फालुन दाफा और इसके सिद्धांतों की मदद से, मैं अपने आप पर नियंत्रण रखने में बहुत अधिक सक्षम हूं।”

उन्होंने आगे कहा, “जीवन एक चित्र है जिसमें काले, सफेद और भूरे रंग अन्य रंगों के साथ मिले होते हैं, लेकिन जो महत्वपूर्ण है वह है समग्र चित्र की स्पष्टता, ईमानदारी और सुंदरता।”

चक्रवर्ती फालुन दाफा के पांचवें व्यायाम का अभ्यास करते हुए। (Credit: Mark Luburic)

एक मंत्रमुग्ध कर देने वाके चित्र की तरह जो सभी रंगों को एक संपूर्ण सद्भावना के साथ जोड़ता है, इस युवा फोटोग्राफर के जीवन में भी, सही रंग जीवित हो चुके हैं।

“हमारे जीवन में, हमें चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जो समय समय पर उभर आती हैं, लेकिन हम सत्य, करुणा और सहनशीलता के सिद्धांतों का पालन करके मुश्किलों को धार्मिक रूप से संभाल सकते हैं… और एक महान चित्र की तरह, हम भी विशिष्ट रूप से उज्ज्वल और स्पष्ट हो सकते हैं,” उन्होंने कहा।


संपादक का संदेश:

फालुन दाफा (फालुन गोंग के नाम से भी जाना जाता है) सत्य, करुणा और सहनशीलता के सार्वभौम सिद्धांतों पर आधारित एक आत्म-सुधार की ध्यान प्रणाली है, जो स्वास्थ्य और नैतिक चरित्र को सुधारने और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के तरीके सिखाती है।

यह चीन में 1992 में श्री ली होंगज़ी द्वारा जनता के लिए सार्वजनिक किया गया था। वर्तमान में 114 देशों में 100 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा इसका अभ्यास किया जा रहा है। लेकिन 1999 के बाद से इस शांतिपूर्ण ध्यान प्रणाली को क्रूरता से चीन में उत्पीड़ित किया जा रहा है।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया देखें:  falundafa.org and faluninfo.org. सभी पुस्तकें, अभ्यास संगीत, अन्य सामग्री और निर्देश पूरी तरह से निःशुल्क, कई भाषाओँ में (हिन्दी में भी) उपलब्ध हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds