एक ऐसे देश के तानाशाह के साथ सामना करना जो पूरी दुनिया की तुलना में अपने स्वयं के लोगों को अधिक से अधिक निष्पादित करता है,  इसे कम से कम एक साहसी कार्य तो कहा ही जा सकता है। जबकि एक बार भी यह हासिल करना मुश्किल हो सकता है—और कहानी कहने के लिए जीवित रह सकता है—तो यह महिला दो बार ऐसा कैसे कर सकीं?

डॉ वेनयी वांग (Dr. Wenyi Wang) से मिलें। वह उग्र विवेक वाली एक बहादुर महिला हैं। जब वह ज़रूरत महसूस करती हैं तो अपनी बात कहने में भी उन्हें बुरा नहीं लगता है।

कुछ लोगों को याद होगा कैसे अप्रैल 20, 2006 को व्हाइट हाउस के लॉन पर भाषण के दौरान चीनी तानाशाह हू जिंताओ (Hu Jintao) को अपमानित करने के लिए डॉ वांग ने सुर्खियाँ बटोरी थीं।

अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश (R) ताली बजाते हैं, जब अप्रैल 20, 2006 को चीनी तानाशाह हू जिंताओ वाशिंगटन, डीसी में व्हाइट हाउस के दक्षिण लॉन के आगमन समारोह के दौरान भाषण देते हैं। (Photo by Mark Wilson/Getty Images)

इस पूर्व पत्रकार को व्हाइट हाउस में एक प्रेस पास के साथ प्रवेश दिया गया था, लेकिन उनके पूर्व नियोक्ता को पता नहीं था कि वह अपना ही विशेष कार्य करने के लिए वहां आयी थीं।

अप्रैल 20, 2006 को व्हाईट हाउस के दक्षिण लॉन में चीनी तानाशाह हू जिंताओ के आगमन समारोह के दौरान कैमरे के स्टैंड से विरोध प्रदर्शन के रूप में वांग वेनयी एक बैनर लेकर खड़ी हैं। Photo by Alex Wong / Getty Images)

“राष्ट्रपति बुश, उन्हें मारने से रोको! राष्ट्रपति बुश, उन्हें फालुन गोंग को सताने से रोको!” डॉ. वांग चिल्लाईं, जो खुद एक फालुन गोंग अभ्यासी हैं।

वाशिंगटन, डीसी में अप्रैल 20, 2006 को व्हाईट हाउस के दक्षिण लॉन पर एक आगमन समारोह में चीनी तानाशाह हू जिंताओ द्वारा भाषण के दौरान एक महिला (C) ने बाधा डाली। (Photo Roger L. Wollenberg-Pool / Getty Images)

उस संदेश को ज़ोर से और स्पष्ट रूप से कहने के बाद उन 47 वर्षीय को सीक्रेट सर्विस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था। उस दिन उनके अचानक विस्फोट ने हू के नेतृत्व में चीन में घृणास्पद मानवाधिकार अत्याचारों पर अंतर्राष्ट्रीय ध्यान आकर्षित किया था।

व्हाइट हाउस के दक्षिण लॉन में चीनी तानाशाह हू जिंताओ के आगमन समारोह के दौरान विरोध दरशाते हुए वांग वेनयी ने एक बैनर लहराया (Photo by Alex Wong/Getty Images)

इस घटना को प्रचारित करने वाली रिपोर्टों ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के फालुन गोंग के उत्पीड़न पर प्रकाश डाला जो “सत्य-करुणा -सहनशीलता” के मूल सिद्धांतों पर आधारित एक लोकप्रिय ध्यान प्रणाली है।

वांग ने हू के भाषण में बाधा डालने के लिए संभावित अभियोजन का सामना किया। समर्थन में, प्रसिद्ध मानवाधिकार वकील गाओ जिशेंग (Gao Zhisheng) ने वांग के मामले में जूरी को एक खुला पत्र लिखा था।

“चीन में क्या हो रहा है, एक ऐसा देश जिसे कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा हिंसक रूप से नियंत्रित किया जा रहा है?

चीन में हुए अत्याचार का रूप क्या है जिसने वांग वेनयी को उस तरह के हालात में तत्काल विरोध करने के लिए प्रेरित किया? इस अत्याचार का परिमाण क्या है? हम चीन में होने वाले अत्याचार और मानव सभ्यता के व्यापक सिद्धांत के बीच के संबंधों को कैसे समझें? हम इस अत्याचार को रोकने और क़ानून बनाए रखने की आवश्यकता के महत्त्व को कैसे संतुलित करें?”

गाओ आगे कहते हैं: “… जब आपने पिछले छः वर्षों में फालुन गोंग अभ्यासिओं के खिलाफ सीसीपी के अमानवीय उत्पीड़न की सच्चाई को बिना किसी पक्ष लिए समझा है [संपादकीय का नोट: 2018 तक के 18 वर्ष], तो आप एक निष्कर्ष पर पहुँच जाएंगे: सुश्री. वांग वेनयी आज मानव जाति की नायक हैं, उनका साहस और नैतिकता महान मानवता की महिमा का प्रदर्शन करती है; वह मानव सभ्यता की आशा और भविष्य का प्रतिनिधित्व करती हैं।”

कल चीन के तानाशाह हू जिंताओ की व्हाइट हाउस की यात्रा के दौरान विरोध प्रदर्शन करने के लिए डॉ. वांग वेनयी को समर्थकों से पाया फूलों का गुलदस्ता हाथ में लिए गिरफ्तार किया गया था। (Photo by Gerald Martineau/The Washington Post/Getty Images)

अगले दिन वाशिंगटन में अमेरिकी जिला न्यायालय से निकलते हुए वैंग, जिन्होंने उस अचानक किये गए विद्रोह के बाद रात जेल में बिताई थी, ने कहा, “यह विवेक का कार्य था और नागरिक अवज्ञा का कार्य था।” वांग को जमानत के बिना छोड़ दिया गया था और सभी आरोप रद्द किये गए थे।

चलते हैं 2001 की ओर

एम्डीना, माल्टा (Mdina, Malta) में, वांग ने कुख्यात मुख्य अपराधी पूर्व तानाशाह जियांग ज़ेमिन (Jiang Zemin) का सामना किया, जिसने फालुन गोंग के शांतिपूर्ण अभ्यास को “उन्मूलन” करने का उत्पीड़न शुरू किया, और जिसने अभ्यासिओं के अंगों को जबरन निकालने का आदेश दिया।

वांग ने पार्टी के अध्यक्ष का संभाषण किया, और उन्हें फालुन गोंग अभ्यासिओं की हत्या को रोकने के लिए कहा।

फोटोग्राफर दारिन ज़ेमिट लुपी (Darrin Zammit Lupi) ने वह ऐतिहासिक क्षण कैद कर लिया और अपनी सही समय पर ली गयी फोटो के लिए एक प्रेस फोटोग्राफी पुरस्कार जीता।

तानाशाह जियांग, जो आज भी जीवित है, वह एक ऐसे तानाशाह हैं जिनके खिलाफ इतिहास में सबसे अधिक मुकदमें दर्ज हुए हैं, जिसमें फालुन गोंग अभ्यासिओं के नरसंहार और सामूहिक हत्या के उनके खिलाफ 209,000 मुकदमें दायर किए गए हैं।

उनकी अत्याचारी उत्पीड़न नीति आज तक जारी है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में रहने वाले डॉ वांग, पैथोलॉजी में एमडी और न्यूरोफर्माकोलॉजी में पीएचडी धारक है। वह डीएएफओएच (Doctors Against Forced Organ Harvesting – DAFOH) की सदस्य हैं, एक गैर-लाभकारी संगठन जिसने चीनी शासन के जबरन अंग निकालने वाले सिंडिकेट का व्यापक रूप से खुलासा किया है।

“पीटर” (L) के नाम से पहचाने जाने वाले एक चीनी पत्रकार अप्रैल 26, 2006 को वर्जीनिया (Virginia) के अरलिंगटन (Arlington) में चीनी डॉ. वांग वेनयी (C), और “एनी” के नाम से पहचाने जाने वाली एक महिला के साथ चीनी अधिकारियों द्वारा फालुन गोंग अभ्यासिओं के जबरन अंग निकालने के बारे में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाषण देते हैं। AFP PHOTO/Nicholas KAMM

स्वतंत्र शोधकर्ताओं ने पुष्टि की है कि जेलों में फालुन गोंग अभ्यासिओं का, जहां वे बड़ी संख्या में पीड़ित अवस्था में पाए जाते हैं, अंगों का स्वास्थ्य जानने के लिए उनका रक्त परीक्षण किया जाता है। एक अभ्यासी, जिसका खून मेल खाता है, प्रत्यारोपण का आदेश पाने के बाद या तो किसी चीनी राष्ट्रीय या विदेशी द्वारा मांग पर मारा जाता है, जिन्हें हफ्ते भर में मेल खाने वाले अंग प्राप्ति का वादा किया गया है।

राज्य द्वारा स्वीकृत जबरन अंग निकालना एक आकर्षक अरब-डॉलर का उद्योग है, और यह सेना, पुलिस, डॉक्टरों और राजनेताओं द्वारा किया जाता है।

इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि डॉ. वांग ने अतीत में ऐसा क्यों किया था। वह अपने विवेक को नजरअंदाज नहीं कर सकीं।

नीचे चीन के जबरन जबरन अंग निकालने पर एक टेड टॉक (TED talk ) देखें:

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds