यह 29 वर्षीय फाम डुक डुय (Pham Duc Duy), और नशीली दवाओं की लत और दुःख के जीवन से उनकी वापसी की कहानी है।

ड्रग्स को छोड़ने के कई असफल प्रयासों के बाद फाम डक डुय भाग्यशाली थे कि एक दुःखी जीवन और निश्चित मौत से बचने के लिए उन्हें एक मित्र का मार्गदर्शन मिला। (Courtesy of Pham Duc Duy)

मैं वियतनाम में हा लोंग सिटी (Ha Long City) में एक मेहनती परिवार का एकमात्र बच्चा था। छोटी उम्र से ही, मैंने स्कूल में ध्यान नहीं दिया और अपनी पढ़ाई के प्रति लापरवाह रहा। मैं एक अवज्ञाकारी बच्चा था और मेरे माता-पिता को मुझसे अच्छा व्यवहार करवाने के लिए दिन रात पीछे पड़े रहना पड़ता था। उन्होंने सभी प्रकार की विधियां अपनाई, मीठी बातों से भी और मार पीट कर के भी । मेरी मां ने कई रातें आँसू बहाकर बितायीं और मैं कह सकता था कि मेरे पिता का दिल भी टूट गया था, लेकिन मुझे कोई परवाह नहीं थी।

पहली बार हल्की चीजों के साथ मेरी नशीली दवाओं की लत शुरू हुई, लेकिन जल्द ही भारी दवाओं तक बढ़ गई। ग्रेड 10 तक मैं हेरोइन का आदी हो चुका था। और यह तब था जब मैंने आपराधिक गिरोहों के साथ समय बिताना शुरू कर दिया और स्कूल छोड़ दिया।

मैंने क्रैक कोकेन का उपयोग शुरू कर दिया, एक सफेद ठोस पाउडर जिससे धूम्रपान किया जा सकता है। जब मैं कोकेन ले रहा था तो उसने मुझे मानसिक उन्माद की स्थिति में डाल दिया और मैं कई दिन खाना खाए बगैर रह सकता था। जब प्रभाव कम हो जाता था तो मैं टूटा हुआ और बहुत ही थका हुआ महसूस करता था।

मुझे नहीं पता कि मैंने उन दिनों दवाओं पर कितना पैसा खर्च किया, लेकिन इतना पता है कि वह बहुत अधिक था।

“मैंने अभ्यास पर अधिक ध्यान केंद्रित करना शुरू किया, और धीरे-धीरे मैंने बेहतर खाना और सोना शुरू कर दिया। मेरे स्वास्थ्य में जल्दी और उल्लेखनीय सुधार हुआ, और अब मैं हमेशा थका हुआ महसूस नहीं करता था। मेरा वजन भी बढ़ने लगा था।” (Courtesy of Pham Duc Duy)

मैंने रिश्तेदारों और पड़ोसियों से उधार लिया, और जब मैं थोड़ा और बड़ा हुआ तो मैंने पैसों के लिए कुछ क़ीमती सामानों को गिरवी रखा, जैसे कि मेरी मोटरसाइकिल और मेरे माता-पिता से चुराए गए सामान। मेरा परिवार हमेशा ऋणदाताओं का भुगतान करने के लिए पैसे एकत्रित करता रहा, हालांकि उनके लिए यह एक संघर्ष था। मेरे माता-पिता की एक कैफे थी, जहाँ वे दिन-रात मेहनत करते थे। मेरी मां दुकान को तैयार करने के लिए रोज़ सुबह जल्दी उठती थी, और बहुत अधिक मेहनत करती थी। एक नशे की लत वाले बेटे की देखभाल करने का मतलब था कि मेरे माता-पिता एक दिन भी छुट्टी नहीं ले सकते थे।

यह सब मेरी आंखों के सामने हुआ, लेकिन मैंने इसकी परवाह नहीं की। मैं वह जवान लड़का था—वह चौड़े सीने वाला गन्दा मनुष्य, जिसके नाक-भौं हमेशा चढ़े हुए होते थे जो अपनी मां के खून-पसीने की कमाई को ख़ुशी से धुएं में फूंक रहा था। मुझे इस बात का तब एहसास हुआ जब मैंने अपना रास्ता तलाशने के बाद पीछे मुड़कर देखा।

बंद रास्ता

जब भी मेरे पास पैसे ख़त्म हो जाते और मैं ड्रग्स नहीं खरीद सकता, तब मेरे भीतर का राक्षस जाग उठता। चोरी और जेबकतरी के विचार कई बार मेरे दिमाग को पार करते थे, लेकिन मैंने यह कभी नहीं किया। सौभाग्य से, मैंने अपने माता-पिता को शारीरिक रूप से या मौखिक रूप से मुझे पैसे देने के लिए मजबूर नहीं किया।

लोग सोचते हैं कि नशे की लत वाले लोग अन्दर से मृत होते हैं और जब वे ड्रग्स चाहते हैं तो खून करने वाले हत्यारों में बदल जाते हैं। लेकिन हकीकत में, नशे की लतवाले लोग, जैसे कि मैं एक बार था, दुःखी होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे इससे बचने का रास्ता नहीं खोज पाते हैं और केवल एक दुःखद वास्तविकता के साथ जीते हैं कि उनका जीवन एक मृत अंत, एक बंद रास्ता है।

“बहुत ही कम समय में मुझे कोई दवा लेने की आवश्यकता नहीं रही। अब एक साल से अधिक हो चुका है, मैं स्वस्थ रहा हूं, और मेरा वजन 15 kg जितना बढ़ चूका है। यह मेरे या मेरे परिवार के सपने से परे था।” (Courtesy of Pham Duc Duy)

मेरे माता-पिता ने अपने एकमात्र बच्चे को बचाने के लिए खुद को समर्पित किया लेकिन उनकी कोई भी विधि मेरी लत को छुड़ाने में मदद करने में सफल नहीं रही। फिर, इस आशा की रौशनी में कि एक परिवार की परवरिश शायद मुझे सीधे रास्ते पर वापस ले आए, मेरे माता-पिता ने मेरा विवाह करवा दिया।

एक सुंदर छोटी बच्ची के पिता होने के बाद भी मैंने अपने तरीकों को जारी रखा। इस बात को सोचकर मेरा दिल टूट जाता है कि मैंने अपनी पत्नी और बेटी को कितनी चोट पहुंचाई थी।

मेरी पत्नी ने आंसुओं के साथ मुझे अनगिनत बार अपना रास्ता बदलने के लिए आग्रह किया, अंततः उन्होंने आशा छोड़ दी और मुझे छोड़ दिया। वह अपने माता-पिता के साथ रहने वापस चली गई, और हमारी बेटी को भी अपने साथ ले गई।

मेरे माता-पिता हमारे टूटे परिवार के कारण परेशानियों से जूझ रहे थे। लेकिन फिर भी, मेरी बदलने की इच्छा नहीं थी। मेरी कोकेन की लत इतनी तीव्र थी कि मैं अपने परिवार के दर्द को महसूस नहीं कर सका। मेरे दिन नशे में धुत्त होकर भ्रांति की अवस्था में बीतते थे।

तब तक, वर्षों से नशीली दवाओं के दुरुपयोग ने मेरे शरीर पर अपना प्रभाव डाल दिया था। मेरी त्वचा पीली पड़ गई थी, मेरी आंखें धुंधली और धंसी हुई थीं, और मैं कमजोर और बीमार था। में अनिद्रा और हेपेटाइटिस B और C से पीड़ित था, और भोजन का स्वाद भी नहीं ले सकता था। मुझे दवा पर बड़ी मात्रा में पैसा खर्च करने की ज़रूरत पड़ती थी जिसे में हनोई (Hanoi) से मंगवाता था। पूरी तरह से थका हुआ और हताश, मैंने अपने जीवन की आशा खोना शुरू कर दिया।

लेकिन फिर, जब मैंने वापस लौटने का रास्ता पाया तो सबकुछ बदल गया।

वापसी का पथ

यह एक ध्यान अभ्यास था जिसने मुझे अपने जीवन पर नियंत्रण हासिल करने में मदद की। इस अभ्यास ने न केवल मेरी बीमारियों को ठीक किया बल्कि मेरे पूरे परिवार की नियति भी बदल दी।

“जितना अधिक मैंने “ज़ुआन फालुन”‘ को पढ़ा, मैं उतना ही अधिक मोहित होते गया।” (Courtesy of Pham Duc Duy)

मेरे दोस्त तोआन (Toan), जिसे पहले नशे की लत हुआ करती थी और जो गुर्दे की बीमारी और अवसाद से पीड़ित हुआ करता था, ने मुझे “ज़ुआन फालुन” नामक एक पुस्तक के बारे में बताया जो फालुन गोंग, चीन से एक ध्यान और चीगोंग अनुशासन के सिद्धांतों के बारे में समझाती है।

उनकी पत्नी फालुन गोंग का अभ्यास करती थीं और उन्होंने इससे तोआन का परिचय करवाया। उन्होंने एक साथ अभ्यास करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे तोआन को दवाओं को छोड़ने, अपनी बीमारियों का इलाज करने और उसे भलाई की ओर ले चलने में मदद की।

परिणामस्वरूप, तोआन एक पूरी तरह से अलग व्यक्ति बन गया था। वह अब पीले रंग की चमड़ी वाला, कमज़ोर, नशे की लत में धुत्त व्यक्ति नहीं रहा, जो पूरा दिन हेरोइन का इंजेक्शन लेते रहता था। उल्लेखनिय रूप से, वह एक गुलाबी-गाल वाले, मुस्कुराते हुए स्वस्थ व्यक्ति में बदल गया था। और वह शांतिपूर्ण और स्थिर लग रहा था—उस व्यक्ति से बहुत अलग, जो कि कई वर्षों के लिए एक भद्दा, भयावह नशेबाज के रूप में जाना जाता था।

तोआन की पत्नी ने नशे की लत और उनके परिवार की पीड़ा और दर्द को गहराई से समझा। वह अपने अनुभव से यह भी जानती थी कि फालुन गोंग लोगों को मौलिक रूप से अपनी समस्याओं का समाधान करने में मदद कर सकता है। बिना किसी हिचकिचाहट के, इतनी ठंड में और इतनी दूर चल कर, वह प्रैक्टिस साइट जाने के लिए मुझे सुबह ही लेने आ जाती थी।

मैं पहले पहले तो बहुत आलसी था क्योंकि मेरा शरीर बहुत कमजोर था, लेकिन उनको मेरे लिए धैर्यपूर्वक इंतज़ार करते देख, जबकि अभी भी बाहर इतना अंधेरा था, मेरे दिल को छू लेता था। मैंने सभी बाधाओं को दूर करने के लिए कड़ी मेहनत की ताकि मैं समय पर प्रैक्टिस साइट पर जा सकूं। मैंने देखा कि फालुन गोंग अभ्यासी वास्तव में अच्छे हैं; वे निःस्वार्थ रूप से दूसरों के बारे में पहले सोचते हैं।

जितना अधिक मैंने “ज़ुआन फालुन” को पढ़ा, मैं उतना ही अधिक मोहित होते गया। यह पुस्तक लोगों को सिखाती है कि सच्ची खुशी दूसरों के बारे में सोचने और सच्चाई, करुणा और सहनशीलता के सार्वभौमिक सिद्धांतों का पालन करने से होती है। इसने मुझे अपने कार्यों पर परिप्रेक्ष्य दिया, और मुझे बहुत खेद था कि मैंने इतने सारे पाप किए थे और इतने सारे लोगों को चोट पहुंचाई थी। पहली बार, मेरा दिल बहुत ही उदास हुआ जब मुझे यह याद आया कि मेरी मां हर दिन कैसे इतनी मेहनत करती है। और मेरे पिता के झुर्रीयों वाले चेहरे पर पीड़ा और दुःख को याद करना मेरे लिए असहनीय था।

पुस्तक को पढ़कर, मुझे समझ आया कि एक अच्छा व्यक्ति होना क्यों जरूरी है, और स्वार्थ जीवन में पीड़ा का मूल कारण है। मुझे लगा कि मुझे एक लंबी नींद से जागृत किया गया था, और मैंने खुद से वादा किया कि मैं बदल जाऊंगा। मैं पहले जैसा ही नहीं रहना चाहता था, और मैं कभी भी किसी को चोट पहुंचाने या निराश नहीं करना चाहता था।

फालुन गोंग को नियमित रूप से पढ़ने और अभ्यास करने के बाद, मुझे लगा कि मेरा शरीर शुद्ध हो गया है। मेरे अभ्यास शुरू करने के पहले सप्ताह में, मुझे अपने मल में खून दिखा, कभी-कभी रक्त के पिंड और कभी-कभी ताजा खून। आश्चर्य की बात है, मुझे अपने पेट में कोई दर्द नहीं था, और न ही मुझे किसी असामान्य भावनाओं का अनुभव हुआ। मैं घबरा गया था, लेकिन मुझे समझ में आया कि मैं बस अपने शरीर से सभी गंदी चीज़ों को बाहर निकाल रहा हूँ। बाद में यह लक्षण जल्द ही स्वाभाविक रूप से ख़त्म हो गए।

मैंने अभ्यास पर अधिक ध्यान केंद्रित करना शुरू किया, और धीरे-धीरे मैंने बेहतर खाना और सोना शुरू कर दिया। मेरे स्वास्थ्य में जल्दी और उल्लेखनीय सुधार हुआ, और मैं हमेशा थकान नहीं महसूस करता था। मेरा वजन फिर से बढ़ने लगा।

जब मैंने व्यायाम करना शुरू किया, तो मुझे अक्सर थकान महसूस होती थी, लेकिन मैंने पाया कि अगर मैं दृढ़ रहूं, तो मैं व्यायाम कर लेने के बाद हर बार बहुत सहज और तरोताजा महसूस करता हूं। मेरी त्वचा उज्ज्वल और गुलाबी हो गई।

बहुत ही कम समय के बाद, मुझे अब कोई दवा लेने की आवश्यकता नहीं थी। एक साल से अधिक समय हो चुका है, मैं स्वस्थ रहा हूं, और मैंने 15 kg से अपना वज़न बढ़ा लिया है। यह मेरे या मेरे परिवार के सपने से परे था।

मेरा स्वास्थय सुधरने के कारण मैं अब अपने परिवार को काम में मदद कर पा रहा हूँ, और मैंने अपनी मां को शारीरिक रूप से काम में मदद करना शुरू कर दिया है—कुछ ऐसा जिसे मैंने कभी सोचा नहीं था। मेरे में इस बदलाव को देखते हुए, मेरी मां ने कहा, “यह साधना का रास्ता [फालुन गोंग] बहुत अच्छा है, मेरा बेटा सचमुच बदल गया है।”

मैंने अपने ससुराल वालों और मेरी पत्नी से माफ़ी मांगी और उन्हें मुझे एक और मौका देने के लिए कहा। मेरी पत्नी ने मुझमें जबरदस्त बदलाव देखा और वापस आने के लिए राज़ी हो गई। मैं उसकी क्षमा के लिए बहुत आभारी था; हमारा परिवार एक साथ फिर से खुश और प्यार भरा हो गया।

आशा फिर से जागी

“यह एक ध्यान अभ्यास था जिसने मुझे अपने जीवन पर नियंत्रण हासिल करने में मदद की।” (Courtesy of Pham Duc Duy)

फालुन गोंग के एक अभ्यासी के रूप में, जब भी मैं संघर्ष का सामन करता हूं, तो सच्चाई, करुणा और सहनशीलता के सिद्धांतों को लागू करने की मैं अपनी पूरी कोशिश करता हूं। इसने मेरे परिवार के लिए सद्भाव और मेरी बेटी के लिए एक स्थायी वातावरण निर्माण किया है।

मैं हमेशा अपने चरित्र को बेहतर बनाने और बेहतर व्यक्ति बनने का प्रयास कर रहा हूं, और इससे मेरे माता-पिता और पूरे परिवार को बड़ी खुशी मिली है। मैंने जीवन की क्षमता में आशा और विश्वास को पुनः हासिल कर लिया है।

फालुन गोंग का अभ्यास शुरू करने से पहले, मेरे व्यसन मेरे जीवन में चिपके हुए गोंद की तरह थे और मेरे दिमाग में प्रवेश कर रहे थे, यहां तक कि जब मैं बहुत बीमार और बिस्तर पर था, तब भी मुझे कम से कम धूम्रपान तो करना पड़ता था, क्योंकि मैं इसके बिना नहीं रह सकता था। मैं जितना ऊब जाता था, उतना ही अधिक अपने व्यसनों की ओर आकर्षित होता था। यह तब तक था जब तक मैंने फालुन गोंग का अभ्यास करना शुरू नहीं किया, और फिर मैं सफलतापूर्वक अपनी बुरी आदतों और नशीली दवाओं के व्यसन को छोड़ने में सक्षम हो गया।

मैंने जल्दी उठना शुरू कर दिया। मुझे पता था कि मेरे विनाशकारी अनुलग्नकों को हटा दिया जाना चाहिए, और मैं कारण और प्रभाव के बीच के संबंधों को बेहतर ढंग से समझने लगा था। अतीत में, मैंने कुछ बार इस लत को छोड़ने की कोशिश की थी, लेकिन हर बार विफल रहा था। कोकेन से दूर रहने के लिए मुझे कई अन्य दवाओं की जरूरत पड़ती थी, लेकिन फिर भी मेरे प्रयास व्यर्थ रहे थे। लेकिन जैसा कि मैंने पुस्तक को और अधिक पढ़ा, मैंने मजबूत और हल्का महसूस करना शुरू कर दिया, और अब मुझे कोकेन की लालसा नहीं होती है। एक नए परिप्रेक्ष्य के साथ, मैं इस परीक्षा को पार करने में सक्षम था।

मैं आश्चर्यचकित था कि मैं कितनी आसानी से व्यसन को छोड़ पाया था, और मेरे आँसू कृतज्ञता से बहने लगे। पहले, जब मैंने हेरोइन छोड़ डी थी, फिर भी मैंने सिगरेट का धूम्रपान नहीं छोड़ा था। दूसरी बार “ज़ुआन फालुन” पढ़ने के बाद, मैंने पूरी तरह धूम्रपान बंद करने का फैसला किया। तब से, मैं अब किसी भी पदार्थ पर निर्भर नहीं हूं।

“सबसे ज्यादा अब मैं जो चाहता हूं वह यह कि उन अन्य युवा लोगों की मदद करने में सक्षम होना जो व्यसनों से पीड़ित हैं, जिनके पास कोई रास्ता नहीं है, जैसे कि मैं पहले था”।(Courtesy of Pham Duc Duy)

मैंने अपने नैतिक चरित्र को भी सुधारा है। उदाहरण के लिए, ग्राहक नियमित रूप से मेरे माता-पिता की दुकान पर भुगतान में गलतियां करते हैं और मुझे बहुत अधिक पैसा दे देते हैं, या वे आईफोन जैसे महंगे मॉडल के मोबाइल फ़ोन हमारी दूकान पर भूल जाते हैं। अतीत में, मैं पैसे ले लेता था या फोन अपने लिए रख लेता था। अब, जैसे ही मुझे पैसे की गलती का एहसास हो जाता है या कोई फोन छोड़ जाता है, तो मैं उन्हें बुलाता हूं और वापस लौटाता हूं जो सही मायने उनका है।

अतीत में, अगर मेरी मां नहीं देख रही होती, तो मैं डिब्बे से अतिरिक्त पैसे निकाल लेता था। लेकिन अब, मैं समझता हूं कि यह गलत है, क्योंकि फालुन गोंग अभ्यासिओं को कभी भी और कहीं भी अच्छा बनकर रहना चाहिए—चाहे कोई देख रहा हो या नहीं।

सबसे ज्यादा अब मैं जो चाहता हूं वह यह कि उन अन्य युवा लोगों की मदद करने में सक्षम होना जो व्यसनों से पीड़ित हैं, जिनके पास कोई रास्ता नहीं है, जैसे कि मैं पहले था। मुझे पता है कि बहुत से युवा लोग हैं जो मेरी तरह टूट चुके है और असहाय हैं, बिना किसी आशा के। जब मैं उन्हें देखता हूं, तो यह वास्तव में मेरे दिल को तोड़ देता है। मुझे पता है कि वे कितने दर्द में हैं, और मुझे उम्मीद है कि वे भाग्यशाली हो सकते हैं और उन्हें भी मेरी तरह नया जीवन मिल सकता है।

फाम डक डुय द्वारा।


संपादक का संदेश:

फालुन दाफा (फालुन गोंग के नाम से भी जाना जाता है) सत्य, करुणा और सहनशीलता के सार्वभौम सिद्धांतों पर आधारित एक आत्म-सुधार की ध्यान प्रणाली है, जो स्वास्थ्य और नैतिक चरित्र को सुधारने और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के तरीके सिखाती है।

यह चीन में 1992 में श्री ली होंगज़ी द्वारा जनता के लिए सार्वजनिक किया गया था। वर्तमान में 114 देशों में 100 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा इसका अभ्यास किया जा रहा है। लेकिन 1999 के बाद से इस शांतिपूर्ण ध्यान प्रणाली को क्रूरता से चीन में उत्पीड़ित किया जा रहा है।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया देखें:  falundafa.org and faluninfo.org. सभी पुस्तकें, अभ्यास संगीत, अन्य सामग्री और निर्देश पूरी तरह से निःशुल्क, कई भाषाओँ में (हिन्दी में भी) उपलब्ध हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds