फालुन गोंग पर हुए अत्याचारों की तरफ ध्यान आकर्षित करने के लिए दुनियाभर में अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस पर अलग-अलग तरह के कार्यक्रम किए जा रहे हैं। ऐसे ही कार्यक्रमों के बारे में नीचे जानकारी दी गई है, जो स्विडन, जर्मनी, मलेशिया और फिनलैंड में आयोजित की गई।

फालुन गोंग के समर्थन में स्वीडन (Sweden) के गोटनबर्ग (Gothenburg) निवासी।

Credit-falunau.org

मानवाधिकार का पालन करने और चीन में फालुन गोंग के अत्याचारों को उजागर करने के लिए स्वीडन के गोटनबर्ग (Gothenburg ) के कुंगस्पोर्ट्सप्लाटसेन (Kungsportsplatsen) में फालुन गोंग अभ्यासी एकत्रित हुए, विशेष रुप से मजबूर करके बल पूर्वक अंगों को निकालने का अपराध।

उन्होंने आरोपी जियांग ज़ेमिन (Jiang Zemin) की याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए भी कहा, पूर्व चीनी तानाशाह जिसने 17 साल पूर्व अत्याचार की शुरुआत की। अबतक, दो लाख से भी अधिक लोगों ने इस तरह की याचिकाओं पर हस्ताक्षर किए हैं।

एक सेवानिवृत दंतचिकित्सक अपने पोतो के साथ एक पोस्टर के सामने खड़ी थी और उन्हें बता रही थी कि चीन में क्या हुआ था। उन्होंने पांच फालुन गोंग अभ्यासों को चित्रित किया और एक अभ्यासी को बताया, “यही है जिसकी आजकल लोगों को सबसे ज्यादा आवश्यकता है–मन की शांति।”

जर्मनी के फ्रीबर्ग (Freiburg) में याचिका दायर की गई

Credit-falunau.org

अत्याचारों के प्रति जागरुकता और लोगों के हस्ताक्षर लेने के लिए,  दिसंबर 10 को जर्मनी और स्विटज़रलैंड के फालुन गोंग अभ्यासी फ्रीबर्ग (Freiburg) में एकत्रित हुए।

Credit-falunau.org

सुबह ही, क्रिसमस मार्केट के प्रवेश द्वार के नजदीक अभ्यासियों ने एक सूचना बूथ लगा दिया। अत्याचारों के दौरान अपनी जान गंवाने वाले अभ्यासियों की याद में रात में अभ्यासियों ने कैंडल लाइट जुलूस निकाला।

एक युवा जर्मन महिला याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए रुकी और कहा, “हर शख्स क्रिसमस के लिए खरीददारी कर रहा है और छुट्टी की खुशी मना रहा है। इस साल इस दिन मानवाधिकार पड़ने का कारण लोगों को यह याद दिलाना है कि, अपनी छुट्टियों का आनंद उठाने के दौरान, उन्हें बदकिस्मत लोगों के प्रति भी ध्यान देना चाहिए और उनके अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए। मानवाधिकार की रक्षा करना स्वयं की रक्षा करना है।”

Credit-falunau.org

एक चीनी दंपति ने कहा कि अंगो के निकालने और अत्याचारों के बारे में उन्हें इंटरनेट से जानकारी मिली। महिला ने कहा कि मानवाधिकार दिवस के मौके पर इस याचिका पर हस्ताक्षर करके उन्हें खुशी हुई। उनके पति भी सहमत हुए, “अत्याचारों को खत्म करने के लिए दुनिया को आपकी मदद करनी चाहिए। कैदियों के अंगो को निकालने से ज्यादा गंभीर मानवाधिकार उल्लंघन कुछ हो ही नहीं सकता।”

मलेशिया में चीनी दूतावास के बाहर प्रैक्टिशनर्स ने अत्याचारों की निंदा की

Credit-falunau.org

मानवाधिकार दिवस के मौके पर फालुन गोंग अभ्यासियों ने मलेशिया में चीनी दूतावास के बाहर एक रैली की। अभ्यासियों को अत्याचार के प्रति जागरुकता फैलाने और इसे खत्म करने में मदद की उम्मीद है।

फिनलैंड : चीनी दूतावास के बाहर प्रदर्शन

Credit-falunau.org

मानवाधिकार दिवस के मौके पर फिनलैंड में चीनी दूतावास के बाहर अभ्यासियों ने शांतिपूर्व प्रदर्शन का आयोजन किया। उन्होंने CCP से तत्काल मांग की कि अभ्यासियों को उनके विश्वास को लेकर कैद करना और उनके अंगो का निकाला जाना बंद किया जाए और पूर्व चीनी नेता जियांग ज़ेमिन को सज़ा दी जाए।

अत्याचारों में मारे गए अभ्यासियों की याद में अगले दिन अभ्यासियों ने कैमप्पि स्क्वायर (Kamppi Square) में एक कैंडल लाइट सभा का आयोजन किया। शून्य से नीचे तापमान में भी, गुजरने वाले पोस्टर पढ़ने और याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए रुक रहे थे।

Credit-falunau.org

मार्कु, हॉलैंड के एक संगीतकार और उनके मित्रों ने अभ्यासियों की याचिका पर हस्ताक्षर किया। मार्कु ने कहा कि, वह चीन में थे, लेकिन उन्हें जरा भी आभास नहीं हुआ कि इस चकाचौंध भरे दृश्यों के पीछे क्या हो रहा है। “मुझे विश्वास नहीं होता कि अंगों का निकाला जाना जैसे अवांछनिय कृत्य यहां हो रहे हैं,” उन्होंने कहा।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds