वाशिंगटन – शनिवार, मई 5 को वाशिंगटन, डीसी में नेशनल मॉल पर एक डबल जन्मदिन समारोह आयोजित किया गया था। आध्यात्मिक अनुशासन के स्थानीय फालुन गोंग (जिसे फालुन दाफा भी कहा जाता है) अभ्यासी, विश्व फालुन दाफा दिवस मनाने के लिए इकट्ठे हुए थे।

अभ्यासिओं ने फालुन दाफा के धीमी गति वाला ध्यान अभ्यास का, घास से घिरे हुए मॉल में सीधी पंक्तियों में खड़े रहकर और अभ्यास के विशिष्ट पीले कपड़े पहने हुए प्रदर्शन किया। समूह के किनारों पर, जो पर्यटक घूमते हैं वे कभी-कभी अभ्यासिओं के साथ अभ्यास करना शुरू कर देते हैं, और एक व्यक्ति उन्हें निर्देश देने के लिए आगे बढ़ता है।

कई प्रदर्शन आयोजित किए गए थे: चीनी शास्त्रीय नृत्य, गायन, कविता पढ़ना, एक ड्रैगन नृत्य, और कमर-ड्रम ट्रूप द्वारा प्रदर्शन। मॉल पार करने के रास्ते पर, दाफा अभ्यासिओं द्वारा कला का एक प्रदर्शन स्थापित किया गया था, साथ ही साथ पोस्टर, यह बताते हुए कि कैसे चीनी शासन इस शांतिपूर्ण समूह पर ज़ुल्म करता है।

चीन में फालुन दाफा को साधना अभ्यास कहा जाता है—व्यक्ति सत्य, करुणा और सहनशीलता के सिद्धांतों के अनुसार व्यायाम के पांच सेट करके और अपने मन, शरीर और आत्मा को विकसित करता है।

चीन में सहस्राब्दी से वंशावली शैली की तरह सौंपा गया, मई 13, 1992 को पूर्वोत्तर चीन में चांगचुन (Changchun) के अपने गृह नगर में दाफा को पहली बार श्री ली होंगज़ी ने जनता के सामने पेश किया था। मई 13 श्री ली का जन्मदिन भी है।

द एपोक टाइम्स (The Epoch Times) ने कई फालुन दाफा अभ्यासिओं से पूछा कि दाफा दिवस का उनके लिए क्या महत्व है।

लोगों को दाफा के बारे में बताते हुए

यह दिन उत्सव का समय है, लेकिन यह याद रखने और कार्रवाई करने का भी समय है। जब अभ्यासी दाफा दिवस के लिए इकट्ठे होते हैं तो वे उत्पीडन में मारे गए लोगों का स्मरण करते हैं, और वे इसके बारे में जागरूकता फैलाने के लिए काम करते हैं, इस प्रयास के साथ कि जिससे इसपर दुनिया की निंदा पहुंचाकर इसे समाप्त किया जा सके।

श्री लियू डेक्सी (Liu Dexi) मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा अभ्यास में से एक का प्रदर्शन करते हैं। (Lisa Fan/Epoch Times)

श्री लियू डेक्सी के पास दिसंबर 7, 2017 को संयुक्त राज्य अमेरिका में आने के बाद चीन में सताए जाने की ताजा यादें हैं। शुरुआत में साक्षात्कार से थोड़े घबराए हुए, लियू ने जल्द ही हँसते और मुस्कुराते हुए उन भयभीत घटनाओं को याद किया जिसे उन्होंने और उनके परिवार ने अनुभव किया था।

पुरुषों और महिलाओं के बेल्ट बेचने वाले एक छोटे से व्यवसाय के मालिक, लियू ने सितंबर 1998 में फालुन दाफा का अभ्यास शुरू करने के बाद खुद में तत्काल परिवर्तन पाया।

उनका पहले वाला गर्म दिमाग अब ठंडा हो गया था, और उन्होंने अपने व्यापार में अधिक ईमानदारी से काम करना शुरू कर दिया। कभी-कभी थोक व्यापारी अनजाने में US$500 तक अधिक भुगतान करते (एक बड़ी राशि, यह देखते हुए कि 2016 में चीन में औसत शहरी वेतन $8,685 था), लेकिन फिर वह उन्हें पैसे वापस कर देते हैं। उन्होंने कहा कि यह कुछ ऐसा है जो वे पहले कभी भी नहीं करते थे।

उनके प्रतिद्वंद्वी नकली चमड़े के बेल्ट को वास्तविक चमड़े के बेल्ट के नाम से बेचते, और कीमत में पर्याप्त अंतर अपनी जेब में डाल देते।लियू ने वास्तविक चमड़े के बेल्ट को असली चमड़े और नकली बेल्ट को नकली के रूप में बेचा, जिससे उनके ग्राहकों को पता चल जाता है कि वे क्या खरीद रहे थे और उन्हें तदनुसार चार्ज करते हैं।

उन्होंने ग्राहकों को उन वस्तुओं को वापस करने की अनुमति दी जिससे वे असंतुष्ट थे, जो चीन में शायद ही कभी किया जाता था। वहां नियम यह है कि खरीदार को सावधान रहना है, कोई वापसी स्वीकार नहीं की जाती।

लियू ने कहा, “दाफा का अभ्यास करना शुरू करने के बाद, मैंने जो कुछ भी किया, उसमें मैंने अपने सिद्धांतों का पालन किया।”

अभ्यास करने के तीन महीने बाद, उनकी पत्नी में बदलावों को देखते हुए उन्होंने भी अभ्यास करना शुरू कर दिया। तब से उनकी पांच वर्षीय बेटी को दाफा के तहत बड़ा किया गया था।

जुलाई 20, 1999 को चीनी शासन का पूरा भार लियू जैसे अभ्यासिओं पर गिरा दिया गया। तत्कालीन सर्वोपरि नेता जियांग जेमिन ने इस ध्यान अभ्यास को खत्म करने के लिए एक अभियान शुरू किया। मीडिया ने इस अभ्यास की निंदा करते हुए देश भर में प्रचार के साथ देश पर हमला किया, और चीन के आसपास के खेल स्टेडियमों में सैकड़ों हजारों अभ्यासिओं को हिरासत में रखा गया।

अप्रैल 25 की रात को जियांग ने पोलितब्यूरो (Politburo) को एक पत्र भेजा, जिसमे उन्होंने फालुन दाफा को चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) के लिए एक वैचारिक खतरे के रूप में प्रस्तुत किया है, और उन्हें डर है कि चीनी लोग सीसीपी के सिद्धांतों की बजाए दाफा की शिक्षा को प्राथमिकता देंगे।

उन्होंने लिखा: “हमें अधिकारियों और लोगों की शिक्षा, दुनिया, जीवन और मूल्यों पर सही दृष्टिकोण के साथ रहना चाहिए। फालुन गोंग जिसे बढ़ावा देते हैं, क्या उनके साथ मार्क्सवाद, भौतिकवाद और नास्तिकता, जो कि हमारे कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य पुष्टि करते हैं से लड़ाई नहीं जीती जा सकती है? यह बिल्कुल हास्यास्पद है!”

लियू और उनकी पत्नी को लगा कि शायद कुछ गलती हो गई है। वे और उनकी छोटी बेटी नवंबर में राज्य से अपील करने के लिए तियानानमेन स्क्वायर (Tiananmen Square) गए, ताकि वे राज्य से अपील कर सकें, उन्हें बता सके कि फालुन दाफा को ग़ैरक़ानूनी करार करने का कोई कारण नहीं था।

उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और चीन के तट पर झेजियांग प्रांत (Zhejiang Province) में, ताइज़हौ शहर (Taizhou City) के उनके शहर में वापस भेजा गया। उन्होंने जेल में 21 दिन बिताए और उन्हें 30,000 युआन ($4,712) जुर्माना लगाया गया; उनकी पत्नी ने 7 दिन की सज़ा भुगती।

जनवरी 2002 में, लियू ने फिर से तियानानमेन स्क्वायर पर अपील करने की कोशिश की। वह और उनके एक और साथी ने अपने कपड़ों के नीचे कमर के चारों ओर लपेटकर एक बैनर छुपाया। वे स्क्वायर में पहुंचे, अपने बैनर को निकाला और उसे ऊँचा किया।

पुलिस उन पर चढ़ गई, उन्हें मुक्के मारकर, उन्हें लात मारकर, और उनके सिर को अपने जूते के साथ फुटपाथ में कुचल रही थी। उन्हें वापस जेल में अधिक समय के लिए ताइज़ौ (Taizhou) भेजा दिया गया।

जब लियू छूट कर आ गए, तब उन्होंने चीन में सभी सार्वजनिक सुरक्षा विभागों को पत्र लिखे (राज्य का प्रशासन 34 प्रांत-स्तर इकाइयों में विभाजित है, जिसमें बीजिंग (Beijing) जैसे प्रांतीय स्तर के शहरों, तिब्बत (Tibet) जैसे स्वायत्त क्षेत्रों और हांगकांग (Hong Kong) जैसे विशेष प्रशासनिक क्षेत्र शामिल हैं) उन्हें यह बताते हुए कि दाफा को सताया नहीं जाना चाहिए।

इस बार, लियू आसानी से नहीं छूटे। गिरफ्तार कर उन्हें ज़ेनजियांग (Zhenjiang) प्रांत में वापस भेजा गया, जहाँ उन्हें जबरन श्रम शिविर में दस साल की सजा सुनाई गई। वहां उनपर अत्याचार किये गए।

एक बार उन्हें सात दिन और आठ रातों तक सोने नहीं दिया गया। उन्होंने हथकड़ियों के साथ लटकाए जाने के कारण अपनी कलाई पर निशान दिखाए। एक आंख के ऊपर और अधिक घाव थे, किसी एक या दुसरे मार का अवशेष।

श्रम शिविर में अपने पूरे समय में, लियू ने फालुन दाफा शिक्षाओं की प्रतियों का अध्ययन किया और उन्हें याद किया जो तस्करी कर शिविर में लाए गए थे। सात साल और आठ महीने बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।

लेकिन जल्द ही उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लिया गया, इस बार दो साल की सजा सुनाई गई। शी जिनपिंग (Xi Jinping) को CCP के अध्यक्ष के पद पर उन्नति के साथ, श्रमिक शिविरों को आधिकारिक तौर पर समाप्त कर दिया गया था (हालांकि कुछ ने बस अपने नाम बदल दिए), और चीन के कुछ हिस्सों में उत्पीड़न कम कठोर हो गया। लियू का शिविर बंद कर दिया गया और उन्हें एक साल और तीन महीने बाद रिहा कर दिया गया।

फिर उन्होंने जियांग जेमिन के खिलाफ अदालत में मामला दायर किया, उनपर नरसंहार और मानवता के खिलाफ अपराधों का आरोप लगाकर। लियू को 15 दिनों के लिए हिरासत में लिया गया।

इस बीच, उनकी बेटी मैरीलैंड विश्वविद्यालय में स्नातक स्कूल में पढ़ रही थी। लियू और उनकी पत्नी को आश्चर्य हुआ जब उनके हाथ में एक पत्र आया जिसमें उन्हें स्नातक समारोह में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया, वे पासपोर्ट प्राप्त करने और संयुक्त राज्य अमेरिका को भाग जाने में सक्षम रहे।

जब पूछा गया कि संयुक्त राज्य अमेरिका में दाफा दिवस का जश्न मनाने का मतलब क्या है, लियू ने कुछ क्षण के लिए अपनी खिली हुई मुस्कान खो दी, और उनकी आवाज़ भावना के साथ कुछ भर आई।

लियू ने कहा, “चीन के बाहर दाफा दिवस मनाने में मैं बहुत सम्मानित महसूस करता हूँ।” “मुझे नहीं पता कि मेरी भावनाओं को कैसे व्यक्त किया जाए। हाँ, यह वास्तव में अच्छा है। यह बहुत अच्छा है।”

अब, लियू अपने दिन डीसी के मॉल पर एयर और स्पेस संग्रहालय (Air and Space Museum) के बाहर एक टेबल पर बिताते हैं, जहां वह चीनी पर्यटकों से बात करते हैं, उन्हें फालुन दाफा के साथ अपने अनुभवों के बारे में बताते हैं की चीन में अभी भी कैसे उनके अनेक दोस्तों को सताया जा रहा है।

लियू ने कहा, “जहां भी मैं हूं, मैं लोगों को दाफा के बारे में सच्चाई बताना चाहता हूं।”

क्षमा

श्री ली ने मई 13, 1992 को फालुन दाफा की शुरुआत के बाद, पूरे चीन के शहरों में, 56 श्रृंखलाओं के व्याख्यान दिए, जिनमें से प्रत्येक को नौ दिन लगते थे। आखिरी ऐसा व्याख्यान श्रृंखला दिसंबर 31, 1994 को दिया गया था।

क्यों की व्याख्यान कक्षों में अक्सर कुछ हज़ार लोग होते थे, ये व्याख्यान कुछ सौ हजार तक सीधे पहुंच गए होंगे। हालांकि, 1999 में पश्चिमी समाचार पत्रों ने राज्य के अधिकारियों को उद्धृत करते हुए कहा कि चीन में 70 से 100 मिलियन लोगों ने फालुन दाफा को अपनाया था।

उदाहरण की शक्ति और एक से दुसरे तक के संचार से यह अभ्यास फैल गया।

झांग हुईदोंग (Zhang Huidong) की उन्नति होकर बीजिंग में चीन की सबसे बड़ी अचल संपत्ति कंपनियों में से एक में उपाध्यक्ष बने थे, इससे पहले कि वह अंततः संयुक्त राज्य अमेरिका में भागने के लिए मजबूर हो गए थे। उनका परिवार दर्शाता है कि कैसे दाफा इतने व्यापक रूप से फैल गया।

मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा दिवस उत्सव में झांग हुइडोंग। (Samira Bouaou/The Epoch Times)

उनकी मां के फालुन दाफा के अभ्यास को शुरू करने के बाद, झांग ने उनके स्वास्थ्य में बदलाव देखा, और उन्होंने अभ्यास करना शुरू कर दिया।

और फिर, उनकी दो बहनों, उनकी पत्नी और उनकी बहनों ने किया। जब चीन में उत्पीड़न होने लगा, तो इस तरह के परिवार बिखर सकते थे।

जेल में तीन साल की सजा काटने के एक सप्ताह बाद, झांग की मां की मृत्यु हो गई। उनकी दो बहनों ने दो दो साल की जेल में सजा काटी। जेल में एक महीना रहने के बाद उनकी पत्नी की बड़ी बहन की मृत्यु हो गई। उनकी पत्नी ने जेल में तीन साल की सजा काटी।

झांग को खुद को तीन बार गिरफ्तार किया गया था और उनपर अत्याचार किये गए थे। उन्होंने अपनी भौहों के ऊपर एक निशान दिखाया, और उनके पास उनकी बाहों पर भारी चोटों की तस्वीरें थीं।

वे इन आपदाओं के बारे में भी सहज आवाज में बोलते है, बिना किसी क्रोध के।

झांग ने कहा, “अगर मैंने फालुन दाफा का अभ्यास नहीं किया होता, तो इतना सहने के बाद, मैं कम्युनिस्ट शासन की ओर घृणा करता।

“इसके बजाय, मैं उन लोगों के लिए सहानुभूति महसूस करता हूं जिन्होंने मुझे सताया, क्योंकि उनके साथ भी कम्युनिस्ट शासन की बुराई द्वारा छल किया गया है।”

मिंगहुई वेबसाइट (Minghui website), जो उत्पीड़न के लिए जानकारी का क्लीयरिंगहाउस और दाफा की साधना के बारे में जानकारी साझा करने के लिए एक मंच का कार्य करती है, यातना और दुर्व्यवहार के कारण 4,213 मौतों की पुष्टि कर सकती है। चीन से इस जानकारी को प्राप्त करने में कठिनाई के कारण, ऐसी मौतों की वास्तविक संख्या बहुत अधिक मानी जाती है।

इसके अलावा, जबरन अंग निकालने से बड़ी संख्या में मौतें हुई हैं। शोधकर्ताओं ने खबर दी है कि फालुन दाफा अभ्यासी सन 2000 से एक प्रत्यारोपण प्रणाली के लिए अंगों का प्राथमिक स्रोत रहे हैं जिसमें 865 अस्पताल शामिल हैं।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, जब विवेक के कैदियों के अंगों को निकाला जाता है, तो सर्जन पीड़ितों के सभी उपयोगी अंग निकाल लेते हैं, जिसमें दिल, यकृत, गुर्दे, त्वचा और कॉर्निया शामिल है, जिससे उनकी मौत हो जाती हैं।

पीड़ित की हत्या के बाद, उनका शरीर नष्ट कर दिया जाता है, जिससे अपराध का कोई सबूत नहीं बचता। इस तरह से मारे गए अभ्यासिओं के परिवार कभी नहीं जान पाते कि उनके प्रियजनों का क्या हुआ, और जैसे वर्ष बीतते हैं, वे उम्मीद पर उम्मीद लगाए बैठते हैं कि उनकी सर्जन के चाक़ू द्वारा हत्या ना की गयी हो।

स्वास्थ्य और कृतज्ञता

लिन फाम (Linh Pham) 10 साल पहले वियतनाम से संयुक्त राज्य अमेरिका चली गईं और एक बीमा कंपनी के साथ डीसी में काम करती हैं। उन्होने फालुन दाफा का अभ्यास करना शुरू किया जब उन्होने अपनी मां और चाची को अभ्यास शुरू करने के बाद बदलाव महसूस करते अनुभव किया।

फाम ने कहा कि उनकी मां को 20 बीमारियां थीं। वह वियतनाम में हर जगह डॉक्टरों के पास गई, और यहां तक कि संयुक्त राज्य अमेरिका में डॉक्टरों को मिलने के लिए यात्रा की। फाम ने कहा कि उनकी बीमारी के लिए कोई कारण नहीं मिला, वह व्याकुल और परेशान थीं।

संयुक्त राज्य अमेरिका में उनकी बहन ने फालुन दाफा का अभ्यास करना शुरू किया, अपने स्वास्थ्य में सुधार देखा, और फिर फाम की मां को अभ्यास सिखाने के लिए उन्होंने वियतनाम की यात्रा की। उनकी मां ने अभ्यास करना शुरू कर दिया, और उनकी 20 बीमारियां गायब हो गईं। उनकी मां ने सभी दवाइयां लेना बंद कर दिया, क्यों कि अब इनकी आवश्यकता नहीं रही।

खुद फाम को बहुकालीन अनिद्रा थी। वे सोने के लिए गोलियां लेती थीं और इससे कई एलर्जी विकसित हुईं। उन्होने कहा कि दाफा का अभ्यास शुरू करने के सात दिन बाद, उनकी एलर्जी चली गई। उनकी अनिद्रा भी समाप्त हो गयी।

अभ्यासी आमतौर पर स्वास्थ्य में सुधार की रिपोर्ट करते हैं। चीन पर फालुन दाफा पर उतरने वाले शासन के प्रतिबन्ध की संभावना के साथ, अभ्यासिओं ने अभ्यास की भलाई का प्रदर्शन करने के लिए कई सर्वेक्षण किए।

डालियान (Dalian) में, 6,000 से अधिक अभ्यासिओं का उनके स्वास्थ्य के बारे में सर्वेक्षण किया गया था। 92 प्रतिशत ने अपने लक्षणों की पूरी तरह गायब होने की सूचना दी, 7.74 प्रतिशत ने मध्यम सुधार देखा, और 0.14 प्रतिशत में कोई स्पष्ट सुधार नहीं हुआ। जितना लंबे समय तक दाफा का अभ्यास किया गया, परिणाम उतना अधिक सकारात्मक था।

फाम अपने स्वास्थ्य में सुधार के लिए बहुत आभारी हैं, और दाफा की, उन्हें बेहतर व्यक्ति बनने में मदद करने के लिए। जो खुद हासिल कर चुकी है वह दूसरों तक पहुँचाना चाहती है, एक बेहतर जीवन जीने का मौका देना चाहती है।

फाम ने कहा, “कुछ लोगों को जीवन में मदद की ज़रूरत है और खुद को बेहतर बनाने के साथ आप अन्य लोगों को भी बदल सकते हैं।” “मेरे दोस्त देखते हैं कि मैं एक बेहतर व्यक्ति बन गयी हूं, और अब वे भी दाफा का अध्ययन करना चाहते हैं।”

एक सुरक्षित आश्रय

20 साल पहले फ्रैंकफर्ट (Frankfurt), जर्मनी (Germany) में, बोजर्न न्यूमैन (Bjoern Neumann) एक बहुत ही ठंडे दिन को पार्क के मध्य से गुज़र रहे थे और उन्होंने धीमी गति से अभ्यास करने वाले चार से पांच लोगों का एक समूह देखा। उन्हें उनसे निकलने वाली गर्म ऊर्जा महसूस हुई, और जब वह वापस जा रहे थे तब वे उनसे बात करने के लिए रुक गए।

मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा दिवस समारोह में बोजर्न न्यूमैन और उनकी बेटी जिंग्लियन। (Samira Bouaou/Epoch Times)

जल्द ही वह फ्रैंकफर्ट में एक फालुन दाफा अभ्यास समूह में शामिल हो गए। प्रारंभ में संदिग्ध, न्यूमैन धीरे-धीरे अभ्यास को समझने लगे।

जब उत्पीडन शुरू हुआ, तब उन्होंने महसूस किया कि दाफा पर हमला किया जा रहा था क्योंकि यह बहुत अच्छा था। कुछ सालों में, वह संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए और अपनी खुद की परिदृश्य कंपनी शुरू की, जो तालाबों और फव्वारे में माहिर हैं।

न्यूमैन ने अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि दाफा दिवस का उनके लिए क्या महत्त्व है।

“इस दुनिया में जहां अविश्वास और नास्तिकता, यह धोखाधड़ी और सच न बोलने की और नकली खबरों की इस उम्र में, इस दुनिया में ऐसे लोग होना जो सच्चे होने की कोशिश करते हैं, दूसरों के प्रति दयालु होना चाहते हैं, और सहनशीलता रखना चाहते हैं, मुझे लगता है कि यह एक शानदार बात है,” न्यूमैन ने कहा।

“अभी, हमारी राजनीति बिलकुल अस्तव्यस्त है। जहां भी आप इस राजनीतिक गड़बड़ी में हैं, फालुन दाफा एक नखलिस्तान की तरह है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दुनिया कैसे बदलती है, अगर आप अपने आप को इस धार्मिक मानसिकता में स्थापित करते हैं, तो इससे आपको कोई रास्ता खोजने की शक्ति प्राप्त होगी, चाहे जो भी हो जाए।

“यह सिग्नल लाइट टावर है, और आप ‘वाह’ कहते हैं, क्योंकि आप को पता है कि यह एक सुरक्षित बंदरगाह है।”

फालुन दाफा अभ्यासी मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर विश्व फालुन दाफा दिवस के उत्सव पर एक जातीय नृत्य करते हैं (Samira Bouaou/Epoch Times)
निक जिफकेक (Nick Zifcak) मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा दिवस समारोह के दौरान ध्यान करते हैं। (Samira Bouaou/The Epoch Times)
लोग मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा दिवस उत्सव के दौरान फालुन गोंग को पेश करने वाले बैनर देख रहे हैं। (Samira Bouaou/The Epoch Times)

 

मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर विश्व फालुन दाफा दिवस उत्सव में एक कमर (waist) ड्रम ट्रूप प्रदर्शन करता है। (Samira Bouaou/Epoch Times)
मई 5, 2018 को वाशिंगटन में नेशनल मॉल पर फालुन दाफा दिवस समारोह के दौरान एक युवा लड़की फालुन दाफा फ्लायर बांटती है। (Samira Bouaou/The Epoch Times)

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds