पिछले एक दशक से, जीवित “दाताओं” से प्राप्त अंगों के दुःखद समाचार ने दुनिया भर में लाखों लोगों को चौंका दिया है। यह अनुमान लगाया गया है कि चीन ने विश्वास करने वाले अनेक स्वस्थ और जीवित लोगों से दिल, यकृत, और गुर्दे बलपूर्वक निकालने के द्वारा अरबों डॉलर बनाए हैं; विशेष रूप से उन लोगों से जो फालुन गोंग नामक प्राचीन ध्यान प्रणाली का अभ्यास करते थे। उभरते प्रमाण बताते हैं कि इस भयानक अपराध के कारण अनगिनत निर्दोष लोगों की उनके अंगों के लिए हत्या कर दी गई है।

16 जुलाई, 2017 को न्यूयार्क शहर में चीनी वाणिज्य दूतावास के समक्ष, चीन में पीड़ितों की स्मृति में सैकड़ों फालुन गोंग अभ्यासिओं ने मोमबत्तियों के साथ एक जुलूस आयोजित किया। (Benjamin Chasteen/The Epoch Times)

फालुन गोंग (जिसे फालुन दाफा के नाम से भी जाना जाता है) एक आध्यात्मिक अभ्यास है जो सच्चाई, करुणा और सहनशीलता के सार्वभौम सिद्धांतों पर आधारित है, और इसमें पांच सौम्य अभ्यास हैं, जिसमें एक बैठकर ध्यान करना भी शामिल है। इस अभ्यास को पहली बार 1992 में जनता के सामने सार्वजनिक किया गया था और थोड़े ही समय में बेहद लोकप्रिय हो गया था। 1999 में अकेले चीन में लगभग 7-10 करोड़ लोग इसका ध्यानपूर्वक करने वाला अभ्यास कर रहे थे। इस शांतिपूर्ण आध्यात्मिक आंदोलन की वृद्धि ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) को चिंतित कर दिया, और उन्हें नास्तिकता पर आधारित अपनी तथाकथित वैचारिक वर्चस्व के लिए डर पैदा हो गया, इसलिए कम्युनिस्ट शासन ने 1999 में फालुन गोंग पर अवैध प्रतिबंध की घोषणा की और एक क्रूर अधिक्रमण को शुरू किया।

(Credit: Samira Bouaou | The Epoch Times)

पिछले 18 सालों से पूरे चीन में फालुन गोंग अभ्यासिओं को सत्य, करुणा, सहनशीलता के नैतिक मूल्यों में अपने आध्यात्मिक विश्वास को छोड़ने के लिए मजबूर किया जाता है—और यदि वे सहमत नहीं होते हैं, तो उन्हें उठवा लिया जाता है। 2006 में, चौंकाने वाली रिपोर्टें स्पष्ट रूप से बताती हैं कि कथित तौर पर “गायब” फालुन गोंग अभ्यासी वास्तव में उनके महत्वपूर्ण अंगों को बलपूर्वक निकालने के लिए सीसीपी द्वारा मारे गए थे, और इस अनैतिक अंग व्यापार से उत्पन्न होने वाले लाभ को अरबों में होने का अनुमान लगाया गया था।

फालुन गोंग के उत्पीड़न की जांच के लिए (The Coalition to Investigate the Persecution of Falun Gong) (CIPFG) को 2006 में, चीनी शासन की जेल, यातना, हत्या और फालुन गोंग अभ्यासिओं के अंगों के निकालने की जांच के लिए स्थापित किया गया था। पूर्व कनाडाई राज्य के सचिव डेविड किलगोर (David Kilgour) और एक प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार वकील डेविड मतास (David Matas) को बड़े पैमाने पर अंगों के बलपूर्वक निकालने के व्यापक आरोपों की जांच करने को कहा गया—दोनो डेविड इस भयंकर जनसंहार को बेनकाब करने के लिए गहराई तक जाने पर सहमत हुए।

पूर्व कनाडाई सांसद डेविड किलगोर (बाएं) और अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार वकील डेविड मातास ने फरवरी 5, 2013 को मानवाधिकारों की उपसमिति में चीन में गैरकानूनी बलपूर्वक अंगों के निकालने में अपनी सात साल की जांच की पुष्टि की। (Matthew Little/The Epoch Times)

जुलाई 20, 2006 को, मतास और किलगोर ने अपनी शोध के निष्कर्ष को “Report into Allegations of Organ Harvesting of Falun Gong Practitioners in China.” नामक रिपोर्ट में प्रस्तुत किया।

“अब हम जो जानते हैं उसके आधार पर हम अफसोसजनक निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि यह आरोप सही हैं। हम मानते हैं कि बड़े पैमाने पर अनिच्छुक फालुन गोंग अभ्यासिओं के अंगो का संग्रहण किया जाता है।” उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा।

David Matas (Credit: Facebook | Doctors Against Forced Organ Harvesting)

“हमने निष्कर्ष निकाला है कि देश के कई हिस्सों में चीन की सरकार और इसकी एजेंसियों ने, विशेष अस्पतालों में से ही नहीं, बल्कि हिरासत केंद्रों और ‘लोगों की अदालतों’ से, 1999 के बाद से अंतरात्मा के फालुन गोंग कैदियों की एक बड़ी लेकिन अज्ञात संख्या को मार डाला है। किडनी, यकृत, कॉर्निया और ह्रदय सहित उनके महत्वपूर्ण अंगों को उच्च मूल्यों पर बिक्री के लिए उनकी इच्छा के विरुद्ध निकाल लिया गया था, कभी-कभी विदेशियों के लिए, जिन्हें आमतौर पर उनके अपने देशों में ऐसे अंगों के स्वैच्छिक दान के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता है।”

David Kilgour (Credit: Facebook | Human Harvest)

निरंतर जांच के लगभग छः महीने बाद, मतास और किलगोर ने जनवरी 31, 2007 को एक संशोधित रिपोर्ट जारी किया। संशोधित रिपोर्ट में सबूत और खंडन के 16 नए आइटम थे, जिसमें अंगों को पाने वाले प्राप्तकर्ताओं के साक्षात्कार, बड़ी संख्या में अभ्यासिओं की अत्याचार के कारण मौत या लापता होना, चीन में अंग प्रत्यारोपण केंद्रों के बड़े पैमाने पर निर्माण, और चीन की सैन्य और चिकित्सा प्रणाली द्वारा लाभ-निर्माण शामिल थे।

2009 में, पूरी जांच ने एक और उपलब्धि हासिल की, जब दोनों डेविद्ज़ ने अपनी रिपोर्ट के एक अद्यतन संस्करण को एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया: (ब्लडी हार्वेस्ट, फालुन गोंग की उनके अंगों के लिए हत्या) ( Bloody Harvest, The killing of Falun Gong for their organs)।

यह चीन में जीवित फालुन गोंग अभ्यासिओं के बलपूर्वक अंगों को निकालने के भयानक अपराध को प्रकट करने वाली पहली पुस्तक है। यह किताब रिपोर्टों की तुलना में बड़ी है और इसमें पहले अप्रकाशित लेख शामिल है। यह दो खंडों में प्रस्तुत की गई है: पहला खंड साक्ष्य को निर्धारित करता है, और दूसरा खंड अंतिम रिपोर्ट पर प्राप्त होने वाली प्रतिक्रियाओं के साथ-साथ चीन में रहने वाले अंग दाताओं का उपयोग करने की प्रथा को समाप्त करने के कुछ सुझावों का विवरण देता है।

Credit: BloodyHarvest.info

चीन में राज्य द्वारा स्वीकृत अंग संचयन के अपराधों की रिपोर्ट के आरोपों को विशेष रूप से कनाडा, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में पर्याप्त मीडिया कवरेज मिला। नतीजतन, विभिन्न देशों की सरकारों द्वारा प्रत्यारोपण पर्यटन प्रथाओं को कड़ा कर दिया गया है। उनके महत्वपूर्ण और प्रशंसनीय प्रयासों के लिए, किलगोर और मतास को जर्मन की (मानवाधिकार के लिए अंतर्राष्ट्रीय सोसायटी) (International Society for Human Rights) द्वारा 2009 मानवाधिकार पुरस्कार मिला और उन्हें 2010 के नोबल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया।

यदि आप बलपूर्वक किये गए अंग संचयन को रोकना चाहते हैं, तो कृपया इन दो याचिकाओं पर हस्ताक्षर करें: Petition to the United Nations | Petition to the Prime Minister of India


फालुन दाफा (फालुन गोंग के नाम से भी जाना जाता है) सत्य, करुणा और सहनशीलता के सार्वभौम सिद्धांतों पर आधारित एक आत्म-सुधार ध्यान प्रणाली है, जो स्वास्थ्य और नैतिक चरित्र को सुधारने और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के तरीके सिखाती है।

यह चीन में 1992 में श्री ली होंगज़ी द्वारा जनता के लिए पेश किया गया था। वर्तमान में 114 देशों में 100 मिलियन से अधिक लोगों द्वारा इसका अभ्यास किया जा रहा है। लेकिन 1999 के बाद से इस शांतिपूर्ण ध्यान प्रणाली को क्रूरता से चीन में उत्पीड़ित किया जा रहा है।

अधिक जानकारी के लिए, कृपया देखें:  falundafa.org and faluninfo.org. सभी पुस्तकें, व्यायाम संगीत, संसाधन और निर्देश पूरी तरह से निःशुल्क, कई भाषाओँ में (हिन्दी में भी) उपलब्ध हैं।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds