जब क्रिस्टीऐन (Christianne) और जेरेमी ग्रीन (Jeremy Green) ने पहली बार 2 साल की सोफी (Sophi) की तस्वीर देखी थी तो पहली चीज़ जिसने उनका ध्यान आकर्षित किया था वह उसकी सुंदर भूरी आँखें थी। लेकिन उन्होंने इस प्यारी चीनी लड़की जो बहुत जल्द उनकी दत्तक बेटी बनने वाली थी, के बारे में और भी कुछ देखा था: सोफी भी दोनों बाहें नहीं थी।

उटाह (Utah) के हैरिमेन (Herriman) में रहने वाले क्रिस्टीऐन और जेरेमी ग्रीन ने सोफी को एक और नन्ही बच्ची लेक्सी (Lexie) के साथ गोद लिया था और उन्हें उनके जन्मस्थान चीन (China) से अमेरिका (US) में उनके नए घर ले गए थे। दोनों लड़कियां गंभीर रूप से अक्षम थी जबकि सोफी के पास बाहें नहीं थी और बहुत सीमित गतिशीलता थी, वहीं उसकी बहन लेक्सी नेत्रहीन थी।

शुरुआत में, ग्रीन दंपत्ति ने केवल लेक्सी को अपनाने की योजना बनाई थी लेकिन सोफी की तस्वीर को देखने के बाद, उन्होंने सोच लिया था कि उन्हें इन दोनों बच्चियों को अपने परिवार में शामिल करना है।

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

हालांकि चीनी अधिकारी किसी भी माता-पिता को एक से अधिक बच्चे को अपनाने की अनुमति नहीं देते हैं लेकिन उन्होंने ग्रीन दंपत्ति के मामले में इस तथ्य के कारण एक विशेष अपवाद बनाया था कि दोनों लड़कियां दिव्यांग थी।

जेरेमी ने समझाया, “ये ऐसे बच्चे हैं जिनका भविष्य अनाथालय और ऐसी जगहों में, जो अमेरिका की तरह विशेष जरूरतों के अनुरूप नहीं हो सकती हैं, में रहने के कारण अंधकारमय होगा ख़ास तौर पर, विशेष ज़रूरतों वाले बच्चों का।”

“निश्चित ही, स्पष्ट रूप से उनकी एक आवश्यकता है लेकिन कई बार इस प्रक्रिया से गुजरने के बाद हमने यह पाया है कि वे जब हमारे परिवार का हिस्सा बनते हैं तो उसे रोशन कर देते हैं।”

आज, 11 वर्षीय लेक्सी और 7 वर्षीय सोफी का एक-दूसरे के साथ एक विशेष बंधन बन गया है।

YouTube Screenshot । Barcroft TV

बहुत जल्दी ही, ग्रीन दंपत्ति दैनिक कार्यों को पूरा करने के लिए, जैसे कि खाना खाने के लिए, सोफी की पैरों का उपयोग करने की क्षमता को देखकर आश्चर्यचकित हो गए थे।

क्रिस्टीऐन ने याद करते हुए कहा:

“मुझे याद है जब हमने उसे गोद लिया था और हमने सोफी को उसका पहला आइसक्रीम कोन दिलाया था।”

“मैं उसे वह खिलाने के लिए तैयार थी और मैंने इसे उसकी ओर किया और उसने झट से इसे अपने नन्हे पैर से छीन लिया और इसे अपने आप ही खाना शुरू कर दिया।

“हम पूरी तरह से चकित थे और हमें उस समय से ही पता था कि वह कुछ भी कर सकती है।”

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

आज, सोफी ने सभी तरह के कार्यों को करने के लिए अपने पैरों और पैर की उंगलियों के प्रयोग में काफी निपुणता हासिल कर ली है। वह अब चाकू और कांटे के साथ-साथ चॉपस्टिक्स (chopsticks) का उपयोग करने में भी सक्षम है। वह एक कलम का उपयोग कर लिख सकती है, अपने दांतों को ब्रश कर सकती है और साइकिल चला सकती है।

जेरेमी ने कहा, “सोफी बहुत ही अदभुत है और उसने वास्तव में अपने आप को बहुत अच्छी तरह से परिस्थिति के अनुसार ढाल लिया है। लोग अक्सर पूछते हैं कि ‘आपने उसे उसके पैरों के साथ ऐसा करना या वैसा करना कैसे सिखाया?’ इसका जवाब है कि हमने उसे यह नहीं सिखाया है।”

“उसने कई मायनों में अपने आप को ढालना सीख लिया है। वह अपने पैर की उंगलियों के साथ बहुत अच्छी तरह से लिखती है। वह चित्र बनाती है और उनमें रंग करती है, वह अपने बालों को धो कर कंघी कर सकती है।”

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

हालाँकि उसका सबसे बड़ा जुनून हमेशा से नाच रहा है। सोफी ने बैले सीखना शुरू किया था लेकिन अंततः उसने वह बंद कर दिया क्योंकि  वह हाथ नृत्यकला के साथ शामिल नहीं हो पाने के कारण परेशान महसूस कर रही थी। वह अब एक नृत्य प्रशिक्षक से एक-एक करके सब नृत्य हरकतें सीख रही है। उसे अपने स्वयं की नृत्य हरकतें करना भी अच्छा लगता है जबकि उसका बड़ा भाई 15 वर्षीय कोनर (Conor) पियानो बजता है।

YouTube Screenshot । Barcroft TV

सोफी को एक पैर विकार भी है, जिससे उसे चलने में और अधिक मुश्किल होती है—उसकी दाहिनी टांग में फाइबुला (fibula) हड्डी के ना होने के कारण वह कमजोर है। वह शुरुआत में चलने में असमर्थ थी और उसके माता-पिता को लगता था कि क्या वह जीवन भर के लिए व्हीलचेयर तक ही सीमित हो जाएगी। उसने ठोढ़ी से चलाई जाने वाली एक व्हीलचेयर के साथ शुरुआत की थी, लेकिन फिर, चलने के लिए दृढ संकल्प सोफी ने इस चुनौती को पार कर लिया, हालांकि उसका संतुलन अभी भी प्रभावित है।

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

सोफी जैसे बिना बाहों वाले किसी भी व्यक्ति के लिए नीचे गिरना चिंता का विषय है क्योंकि उसे वापस उठने में बहुत कठिनाई होगी और उसे सूजन और घावों को सहन करना सीखना पड़ेगा।

शायद भावनात्मक पीड़ा शारीरिक पीड़ा से अधिक कठिन होती है—लेकिन इसी से उसके बढ़ने की सबसे अधिक संभावना है। सोफी कभी-कभी बहुत परेशान महसूस करती है जब उसे लोगों की अजीब नज़रों और सवालों का सामना करना पड़ता है जैसे “आपकी बाहें क्यों नहीं हैं?” एक बार, उसके एक सहपाठी ने उससे यह सवाल किया था और वह रोते हुए घर आई थी और कक्षा में वापस जाने से डर रही थी।

क्रिस्टीऐन ने बताया, “हमने उसे ऐसी असुविधाजनक स्थिति में मजाकिया और रचनात्मक उत्तर देना सिखाया है।”

“एक सवाल जो उससे बार-बार पूछा जाता है कि ‘तुम्हारी बाहें क्यों नहीं हैं?’ और कभी-कभी वह कहती है कि ‘मैंने उन्हें दफन कर दिया’ या ‘एक शार्क ने उन्हें खा लिया’ और वे हँस पड़ते हैं और यह उस माहौल को थोडा हल्का कर देता है।”

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

उसकी माँ ने बताया: “हालांकि यह अभी भी उसे परेशान करता है, लेकिन वह इसके ऊपर उठना सीख रही है।”

“जब लोग दुखदायी टिप्पणियां करते हैं या बहुत अधिक घूरते हैं तो वह आम तौर पर निराश हो जाती है और रोने लगती है और हमसे लिपटकर कहती है ‘मैं केवल दूसरे बच्चों के समान ही सब काम करने में सक्षम होना चाहती हूँ’ लेकिन समय के गुजरने के साथ-साथ वह  आत्मविश्वास से भर गई है और ये सब बातें अब उसे उतना परेशान नहीं करती हैं।”

“वह सबको ख़ुशी देती है, उसमें बहुत साहस और उत्साह है। वह बहुत प्यारी और सबका ख़याल रखने वाली और दयालु है। वह वास्तव में एक सुन्दर नन्ही परी है। मुझे नहीं लगता कि बाहों का ना होना उसे कुछ भी करने से रोक पाएगा।”

YouTube Screenshot । Barcroft TV
YouTube Screenshot । Barcroft TV

सोफी कहती है कि वह दूसरों को जीवन में चुनौतियों पर काबू पाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है, चाहे वे शारीरिक रूप से कुछ भी करने में समर्थ हों या असमर्थ। वह यह भी उम्मीद करती है कि उसकी कहानी कई परिवारों को विदेशों से बच्चों को गोद लेने के लिए प्रोत्साहित करेगी। उसने सलाह के कुछ शब्दों को साझा किया:

“किसी को भी स्वयं को वह करने से मत रोकने दें जिससे आप सचमुच प्यार करते हैं।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds