कहते हैं, बाल मन कच्ची मिट्टी के समान होता है, उसे जिस भी आकार में ढाला जाए वह ढल जाता है। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में स्थित एक प्राइवेट स्कूल इन दिनों कुछ ऐसा काम कर रहा है, जिसकी बदौलत झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले बच्चों का पेट भर रहा है और छात्रों को भोजन की बर्बादी नहीं करने की सीख भी मिल रही है।

1. स्कूल में लगाया फूड एटीएम!

Credit: Mahadevi Birla world Academy

दी बेटर इंडिया के अनुसार शहर के पार्क सर्कस क्षेत्र में स्थित ” महादेवी बिरला वर्ल्ड अकादमी” के शिक्षकों और छात्रों ने एनी टाइम फूड (Any Time Food (ATF)) फ्रिज लगाया है। जिसमें वे लोग खाने की चीज़ें एकत्रित करते हैं, जिन्हें झुग्गी में रहने वाले बच्चों में वितरित किया जाता है।

2. कैसे हुई शुरुआत!

Credit: Mahadevi Birla world Academy

एटीऍफ़ लगाने का विचार कहां से आया इस संबंध में स्कूल की प्रधानाचार्या अंजना शाह ने बेटर इंडिया को बताया, “हमने शहर में लगे इस तरह के फूड एटीएम के बारे में पढ़ा था, जिसके बाद हमारे मन में स्कूल में इस तरह का एटीएम लगाने का विचार आया।”

3. समाज से जुड़ते हैं छात्र!

Credit:Mahadevi Birla world Academy

4000 छात्रों के साथ मिलकर हमने समाज में कुछ अलग करने की ठानी। इस तरह छात्रों को शिक्षा के साथ-साथ समाज से जुड़ने का अवसर भी मिलता है और वे समाज की वास्तविकता से अछूते नहीं रहते हैं।

4. अपनी ज़रुरत की चीज़ें ले जाते हैं बच्चे!

Credit:Mahadevi Birla world Academy

खबरों के मुताबिक प्रधानाचार्या ने बताया, “सोमवार से शुक्रवार दोपहर 2:45 से 3 बजे तक 6 साल से 14 साल के बच्चे लाइन लगाकर खड़े होते हैं और उन्हें स्कूल की गेट खुलने का इंतज़ार रहता है। गेट खुलने के बाद वे इस फ्रिज से अपनी ज़रुरत की चीजें, जैसे, दलिया, ब्रेड, बिस्कुट, सब्जी, दूध और फल आदि ले जाते हैं।”

उन्होंने कहा, “हम आशा करते हैं कि अन्य स्कूल भी इस तरह की शुरुआत करेंगे और छात्र समाज में होने वाले एक बदलाव का हिस्सा बनेंगे।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds