कौन कहत है कि खुशहाल जीवन व्यतीत करने के लिए ज्यादा पैसे होना ज़रुरी है। इंसान यदि चाहे तो कम आय में भी अपनी आजीविका चला सकता है और हंसी-खुशी जीवन व्यतीत कर सकता है। अब इन वृद्धा को ही ले लीजिए, जिन्होंने मात्र ₹2 की कमाई में भी अपने परिवार का भरण-पोषण किया है।

फेसबुक पेज ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे पर इन वृद्धा की कहानी साझा की गई है, जिसमें उन्होंने बताया, “जब  मैं 10 वर्ष की थीं तब से काम करती हूँ और आज मेरी बड़ी बेटी की उम्र करीब 50 वर्ष की है। वृद्धा की मानें तो पति की मौत के बाद भी उन्होंने जिंदगी से हार नहीं मानी और ना ही कभी असहाय महसूस किया।”

ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे से बात करते हुए वृद्धा ने बताया कि “पति के गुजरने के बाद मैंने चूड़ी का स्टॉल लगाना शुरु किया और यहीं से मेरी खुशियों का संचार भी हुआ। सच्चाई यह है कि उस दौरान चुड़ियां बेचकर मेरी करीब ₹2 की कमाई होती थी और उसी में मैं अपने परिवार का पेट पालती थी। लेकिन इस कमाई से भी मैं बहुत खुश थी।”

“उस दौरान मैं अपनी एक छोटी सी झोपड़ी में रहती थी, जिसका मैने अपनी कमाई के बलबूते जीर्णोद्धार किया और आज मेरा दो मंज़िला मकान है। ये सब कुछ मैने अपनी मेहनत से किया।” उन्होंने कहा कि, “मैने कभी भी किसी के आगे ₹10 के लिए भी हाथ नहीं फैलाए है, और ना ही किसी के घर के बर्तन साफ करने पड़े है।”

उन्होंने कहा, “मैने अपनी लड़ाई खुद लड़ी। मैं आज भी कड़ी मेहनत करती हूं और अपनी जिंदगी से खुश हूं। अपने नाती-पोतों के साथ जीवन का आनंद उठा रही हूं, जिस तरह मैं चाहती हूं।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds