शिक्षा ग्रहण करने की कोई उम्र नहीं होती। आप उम्र के चाहे जिस भी पड़ाव में हो विद्या के मंदिर के दरवाज़े आपके लिए हमेशा खुले होते हैं। बस उसके लिए मेहनत और लगन की आवश्यकता होती है। कुछ ऐसी ही मेहनत और लगन के साथ मुंबई के इस टैक्सी ड्राइवर ने उम्र के करीब आधे पड़ाव में अपनी पढ़ाई पूरी की।

पढ़ने की कोई उम्र नहीं होती!

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में टैक्सी चलाने वाले मो.शेख ने अपने पुत्र के साथ स्नातक की डिग्री हासिल की है। इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “पढ़ने के लिए कोई उम्र नहीं होती। मैं खुश हूं कि मैंने अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी कर ली।”

पिता की सहायता करता था पुत्र!

तो वहीं दूसरी ओर इस संबंध में बात करते हुए उनके पुत्र ने कहा, “मुझे बहुत खुशी है। मैं उनकी समस्याओं को हल करता था क्योंकि मैं रेगुलर क्लास करता था जबकि वे सप्ताह में मात्र एक बार ही क्लास जा पाते थे।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds