आज के दौर में अमुमन हर शहर में पीने की पानी को लेकर आमजन परेशान है। बात चाहे देश की राजधानी दिल्ली की हो या फिर मरुभूमि की, जल की समस्या से हर शहरवासियों को दो-चार होना पड़ रहा है। कुछ ऐसी समस्या का सामना हैदराबाद की कल्पना रमेश को भी करना पड़ा, लेकिन उन्होंने इसका हल भी निकाल लिया।

दी बेटर इंडिया के अनुसार कल्पना ने बताया कि जब वे पहली बार हैदराबाद आईॆ, तो उन्हें इस बात का अंदाज़ा ही नहीं था कि यहां उन्हें पानी जैसी आवश्यक चीज़ के लिए तरसना पड़ जाएगा। हालांकि, जल्द ही उन्होंने अपनी इस समस्या का हल भी निकाल लिया। इस समस्या से निजात पाने के लिए वे बारिश के पानी को संरक्षित करने के विचार के साथ आईं।

मीडिया से बात करते हुए कल्पना ने बताया, “हमने अपनी छत पर एक जाल लगाया ताकि पत्ते, कचरा या फिर इस तरह की अन्य चीज़ें टैंक में न जा पाए। उस जाल के नीचे हमने एक टैंक स्थापित किया, जिसमें बारिश का पानी मिट्टी और कोयला के फिल्टर के माध्यम से जाता है। ये प्राकृतिक रुप से पानी को साफ करते हैं और उसे इस्तेमाल के लायक बनाते हैं।”

Credit: Facebook(Kalpana Ramesh)

यही नहीं! कल्पना ने रोजमर्रा के काम में इस्तेमाल होने और खराब होने वाले पानी को भी रिसाइकिल करने के बारे में सोचा, जिसका इस्तेमाल उनका परिवार घर के बगान की सिंचाई करने में करता है।

इस योजना के सफल होने के बाद कल्पना ने अपने मोहल्ले के लोगों को भी बारिश का पानी संरक्षित करने और टैंक स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया।

कल्पना की इस पहल को देखते हुए यह कहना बिल्कुल भी अनुचित नहीं होगा कि “बूंद-बूंद से घड़ा ही नहीं, टैंक भी भरता है।”

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds