कर्नाटक के मंगलूर शहर की रहनेवाली सर्फर और स्टैंडअप पैडलिंग (surfer and stand-up paddling) तन्वी जगदीश विदेशी समुद्रों पर अपनी कौशल का प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं। 18 वर्षीय तन्वी आने वाले महीनों में आयोजित होने वाले दो अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठित सर्फिंग खेलों में हिस्सा लेने वाली भारत की एकमात्र प्रतिभागी हैं। 

17 और 18 नवम्बर को आयोजित होने वाले सिंगापुर ओशन कप (Singapore Ocean Cup) में तन्वी भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली एकमात्र प्रतिभागी हैं। पेरिस एसयूपी क्रॉसिंग(Paris SUP Crossing) द्वारा दूसरा कार्यक्रम दिसंबर के दूसरे सप्ताह में होगा जहां तन्वी के साथ एक और सर्फर को भेजे जाने की संभावना है। 

छह अंतरराष्ट्रीय पदक जीत चुकीं तन्वी आत्मविश्वास से परिपूर्ण हैं और आनेवाली प्रतियोगिता में उन्हें पदक जीतने की पूरी उम्मीद है। साथ ही 2024 में होनेवाले स्टैंड अप पैडलिंग विश्व कप पर तन्वी ने अपनी नज़रें जमाई हुई हैं और आने वाले अवसरों का पूर्णता से फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहतीं हैं। 

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 

You are amazing remember that 🌟 @vans_india . #Saturdayplissgoslow #saturdayvibes #surfergirl #vanssurf #vansgirl #smile #glow #thatbrowngirl #tannedtotheheavens

A post shared by Tanvi Jagadish – India🇮🇳 (@indiansurfergirl) on

तन्वी ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए कहा, “मुझे अपने खेल से बहुत प्यार है और मैं अपना बिस्तर सुबह 3:30 बजे छोड़ देती हूँ और एक घंटे ध्यान और योग करने के बाद लगभग 5:30 बजे अपने सर्फिंग अभ्यास को शुरू करती हूँ ।” 

तन्वी ने अपने अभ्यास को अधिकतम समय देने के लिए अपना निवास स्थान ही बदल डाला है। वे अब अपनी दादी के घर में रहती हैं जहाँ से सर्फिंग क्लब मात्र 10 मिनट की पैदल दूरी पर है।

तन्वी बताती हैं कि वह दिन में चार से पांच घंटे अपने अभ्यास के लिए पानी में ही बिताती हैं। उनके वर्तमान प्रशिक्षक हेडेन रोड्स हैं जो सर्फिंग और स्नोबोर्डिंग जैसे खेलों में दुनियाभर के एथलीटों को अपने प्रदर्शन में सुधार करने के लिए मदद करते हैं। 

सर्फिंग अभी भारत में शुरुआती चरण में है और सरकार की तरफ से तन्वी को किसी भी तरह से मदद प्राप्त नहीं हुई है। पैसों की कमी के चलते उन्होंने अगले महीने चीन में होने वाले विश्व कप में भाग लेने का सुनहरा मौका गवा दिया। साथ ही व्यक्तिगत रूप से इस खेल को आयोजित करना काफी महंगा है। इसलिए तन्वी प्रायोजकों की तलाश में हैं ताकि वह देश के लिए अधिक पुरस्कार लाने पर ध्यान केंद्रित कर सके।  

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds