आज की राजनीति में देखें तो ज्यादातर नेताओं की जिंदगी पूरी तरह से लग्जरी हो गई। खाने-पीने से लेकर गाड़ी-बंगले हर चीज़ का एक स्टैण्डर्ड है। हालांकि आज के इस लग्जरी वाले राजनीति में एक राजनेता ऐसे भी हैं, जो अपनी सादगी के लिए जाने जाते हैं। सादगी ऐसी की वे दफ्तर भी स्कूटर से चले जाते हैं। दिसंबर 13, 1955 को जन्में “मनोहर पर्रिकर” देश के रक्षामंत्री के पद पर भी काबिज़ रहे हैं और फिलहाल गोवा के मुख्यमंत्री भी हैं, लेकिन इन शीर्ष पदों पर रहते हुए भी पर्रिकर एक आम इंसान की तरह सादगी पूर्ण जीवन जीते हैं…

आज उनके जन्मदिन के मौके पर मनोहर पर्रिकर के जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी घटनाओं का जिक्र करते हैं, जिनके बारे में जानकर आपको सहज ही उनके सादगी का अंदाज़ा लग जाएगा।

1. स्कूटर से ही निकल जाते थे

Credit-Patrika

तीसरी बार गोवा की कमान संभालने वाले मनोहर पर्रिकर देश के पहले आईआईटी पास मुख्यमंत्री हैं। मुख्यमंत्री रहते हुए वे भी फाइव स्टार होटल में भी अपने स्कूटर से ही निकल जाते थे।

2. जब रास्ते में खराब हो गई गाड़ी

Credit-Inext

पर्रिकर के करीबियों की माने तो एक बार वे एक कार्यक्रम में शरीक होने के लिए पांच सितारा होटल में जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही उनकी गाड़ी खराब हो गई।

3. गार्ड ने होटल में घुसने से रोक दिया

Credit-Bhaskar

उन्होंने तत्काल एक टैक्सी बुलवाई और साधारण कपड़े और चप्पल पहने वे होटल पहुंच गए। कहते हैं कि पर्रिकर को इस वेश-भूषा में देखकर होटल के गार्ड ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया।

4. पर्रिकर के करीबियों ने गार्ड को उनके बारे में बताया

Credit-Patrika

जिसके बाद उन्होंने गार्ड से कहा कि मैं गोवा का मुख्मंत्री हूं। पर्रिकर की इस बात पर गार्ड को सहज विश्वास नहीं हुआ और वह ठहाके मारकर हंसने लगा। हालांकि बाद में पर्रिकर के करीबियों ने गार्ड को उनके बारे में बताया।

5. लाइनों में लगे भी दिख जाते हैं

Credit-Jagran

शादी जैसे बड़े कार्यक्रमों में भी पर्रिकर बिना ताम-झाम के साधारण वेशभूषा में ही पहुंच जाया करते हैं। उन्हें शादी समारोह में कई बार लाइन में लगकर खाना लेते हुए भी देखा गया है।

6. राजनीति

Credit-Satyagrah

बात अगर उनके राजनीकि करियर की करें तो पर्रिकर 1994 में पहली बार विधायक बने थे। अक्तूबर, 2000 में वह पहली बार गोवा के मुख्यमंत्री बने थे। उसके बाद साल 2012 में वे दूसरी बार गोवा के मुख्यमंत्री बने, मार्च 2017 में देश के रक्षा मंत्री का पद छोड़कर वे तीसरी बार गोवा के मुख्यमंत्री बने।

Share