स्वास्थ्य बीमा कंपनी अपोलो म्यूनिख ने आर्थिक और सामाजिक रूप से कमजोर वर्गो की महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए “रोशनी” नामक पहल की शुरुआत की।

इस पहले के तहत अपोलो म्यूनिख ने अपोलो मेडस्किल्स लिमिटेड के साथ मिलकर भारत के छोटे शहरों में 10,000 गरीब महिलाओं को नर्स (पैरामेडिक) की निशुल्क शिक्षा प्रदान करने की योजना बनाई है।

महिलाओं और बालिकाओं पर विशेष रूप से केंद्रित इस कार्यक्रम का लक्ष्य न सिर्फ उन्हें कौशल सीखाने और वित्तीय रूप से स्वतंत्र होने के समान अवसरों के जरिए सशक्त बनाना है, बल्कि भारत में स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की सबसे बड़ी चिंताओं में से एक, यानी अच्छी तरह प्रशिक्षित पैरामेडिक्स की कमी से निपटने में मदद करना भी है।

Doctor, Bless You, Stethoscope, Health Soil, Disease
Credit: Pixabay

इस अवसर पर अपोलो म्यूनिख हेल्थ इंश्योरेंस के सीईओ एंटनी जैकब ने कहा, इस प्रयास को जरिए हम समाज में महिलाओं की जगह मजबूत करना चाहते हैं। इसे साकार करने के लिए ही महिलाओं को सशक्त बनाने के कार्य को ‘मेक इंडिया हेल्थ कॉन्फिडेंट’ के अपने आह्वान से जोड़ा और उन्हें सशक्त बनाने का बीड़ा उठाया है। हमारा कार्यक्रम “रौशनी” उनके जीवन को रौशन करने एवं उन्हें आजीविका का स्रोत प्रदान करने का एक प्रयास है।

Doctor, Physician, Md, Medical Practitioner, Clinician
Credit: Pixabay

एंटनी जेकब ने कहा, हम महिलाओं को जनरल ड्यूटी असिस्टेंट बनने में मदद करने और उनकी सेवा से करोड़ों लोगों के जीवन में अंतर लाने की इच्छा रखते हैं। हालांकि, यह समुद्र में एक बूंद की तरह है, पर मुझे पूरा भरोसा है कि यह कार्यक्रम देश में पैरामेडिकल कर्मियों की मांग और आपूर्ति के बीच अंतर को पाटने में एक उल्लेखनीय बदलाव लाएगा, जो कि स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में एक बड़ा मुद्दा है। साथ ही यह कार्यक्रम महिलाओं को स्वयं पर भरोसा करने के सफर में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा और उनका उत्साह बढ़ाएगा।

Share

वीडियो

Ad will display in 10 seconds