बॉलीवुड, औपचारिक रूप से हिंदी सिनेमा के रूप में जाना जाता है, यह भारतीय हिंदी भाषा फिल्म उद्योग है, जो मुंबई (पूर्व में बॉम्बे), महाराष्ट्र, भारत में स्थित है। फिल्म निर्माण के मामले में भारतीय सिनेमा दुनिया का सबसे बड़ा फिल्म उद्योग है।

बॉलीवुड का एक और साल ख़त्म होने को आया है और इस साल भी इस इंडस्ट्री ने बहुत सारे विवाद, परिवर्तन के बीच, कई कुछ नए और दिलचस्प विषयों को उजागर करते हुए हमारा मनोरंजन किया है। न्यूटन और लिपस्टिक अंडर माई बुरखा जैसी कुछ अलग फिल्में, फ़िल्मी मसाला रीमेक जैसे जुड़वा 2 और इत्तेफाक, कई फिल्मों का दूसरा भाग जैसे जॉली एलएलबी 2 और कमांडो 2, सामाजिक मुद्दों पर फिल्में जैसे टॉयलेट: एक प्रेम कथा और शुभ मंगल सावधान, कुछ जीवनियाँ और कई और विषयों पर भी फिल्मे बनी हैं।

फिल्में तो आती-जाती रहती हैं परन्तु उनके डायलॉग्स हमेशा जिंदा रहते हैं। कई डायलाग हमारे दिलों में एक ख़ास जगह बना लेते हैं और हम जानते हैं कि बॉलीवुड प्रेमियों के लिए इनके क्या मायने हैं। हम आपके लिए लाये हैं 2017 के बॉलीवुड के कुछ ऐसे ही प्रचिलित डायलाग, जिन्हें हम हमेशा याद रखेंगे:

1. बाहुबली 2: दी कनक्लूज़न

Credit-Onlinehck

सोच अगर पक्की हो तो एक तिनका भी तलवार में बदल सकता है।

2. रईस

credit: bollywoodhungama

कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता।

3. टॉयलेट: एक प्रेम कथा

credit: bollywoodmdb

बीवी पास चाहिए तो घर में संडास चाहिए।

4. जुड़वाँ 2

Plot
credit: filmibeat

सलामत है हर वो बेटे का पप्पा… जिसके साथ है गणपति बाप्पा।

5. ट्यूबलाइट

credit: hitmoviedialogues

यकीन एक ट्यूबलाइट की तरह होता है… देर से जलता है… लेकिन जब जलता है, फुल लाइट कर देता है।

6. बदरी की दुल्हनिया

credit: bollywoodlife

हम हमेशा सोचते थे… जिससे शादी करेंगे न हम, उसकी ज़िन्दगी बन जाएगी… पर तुमको देखने के बाद हमको ऐसा लगता है… कि जिससे तुम्हारी शादी होगी न, उसकी ज़िन्दगी बन जाएगी।

7. जॉली एलएलबी 2

credit: indiatvnews

बिना कुर्सी के नेता… बिना सुपरहिट के अभिनेता… और बिना चैम्बर के वकील की कोई इज्ज़त नहीं है गुरु।

8. काबिल

credit: indianexpress

लोग क्या सोचेंगे ये भी अगर हम सोचेंगे तो लोग क्या सोचेंगे।

9. फुकरे रिटर्न्स

credit: rochakkhabare

उम्मीद पे नहीं… जुगाड़ पे दुनिया कायम है।

10. बादशाहो

credit: indianexpress

ये जो समय है न, ये सबकी लेता है… समय-समय पर, सही समय पर… सही तरह से लेता है।

बॉलीवुड डायलॉग्स का सिलसिला यहीं खत्म नहीं होता, यह तो डायलॉग्स का भण्डार है।आगे भी फिल्मे बनती रहेंगी और हमारे पसंदीदा कालाकार डायलाग बोलते रहेंगे।

आपको इनमें से कौन-सा डायलाग पसंद आया, हमें भी बताइए।

Share

वीडियो

Ad will display in 09 seconds